पणजी। कांग्रेस की गोवा इकाई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश यात्राओं को लेकर निशाना साधा है। मगर, इस बार जो तरीका कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने अपनाया है, वह थोड़ा हैरान करने वाला है। गोवा यूनिट के एक नेता ने गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम 'विदेश यात्रा में रिकॉर्ड बनाने के लिए' दर्ज किया जाए।

पार्टी के एक नेता ने बुधवार को यह जानकारी दी। गोवा कांग्रेस के महासचिव संकल्प अमोनकर की तरफ से ब्रिटेन स्थित जीडब्ल्यूआर के अधिकारियों को रजिस्टर्ड पोस्ट के जरिए खत भेजकर यह अपील की गई है। महासचिव ने पत्र में लिखा था कि हम भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम का सुझाव देते हुए बहुत खुश हैं।

उन्होंने वर्ल्ड रिकॉर्ड स्थापित किया है। उन्होंने भारत के संसाधनों का सही उपयोग किया है और चार वर्षों में 52 देशों की 41 यात्राएं कर रिकॉर्ड स्थापित किया है। वह इसके लिए 355 करोड़ रुपए खर्च कर चुके हैं।

अमोनकर ने कहा कि वह भारत की भावी पीढ़ी के लिए रोल मॉडल बन गए हैं, क्योंकि किसी भी प्रधानमंत्री ने अपने कार्यकाल के दौरान विदेशों की इतनी यात्राएं नहीं कीं। इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री के तौर पर मोदी के कार्यकाल में भारतीय रुपया, अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 69.03 रुपए के स्तर तक पहुंच गया है।

बाजार में बिक रहे हैं नकली अंडे, जानें कैसे पहचानें उन्हें

अमोनकर ने पार्टी मुख्यालय में बुधवार को पत्रकारों से कहा कि हम मोदी के कार्यकाल की विसंगतियों को दिखाना चाहते हैं, जहां प्रधानमंत्री ने देश से ज्यादा विदेशों में समय बिताया है। हाल ही में पीएमओ ने एक आरटीआई के जवाब में पीएमओ की तरफ से बताया गया है कि इन यात्राओं के दौरान पीएम मोदी करीब 165 दिन विदेश में रहे।

अप्रैल 2015 का मोदी का तीन देशों का दौरा उनका सबसे महंगा दौरा रहा। 9 दिन के दौरे में पीएम ने फ्रांस, जर्मनी और कनाडा की यात्रा की थी। इस दौरान करीब 31 करोड़ (31,25,78,000) रुपए खर्च हुए। वहीं, पीएम का सबसे सस्ता विदेशी दौरा 2014 का भूटान का रहा। इस दौरे पर 2 करोड़ 45 लाख 27 हजार 465 रुपए खर्च हुए थे।

17 साल से सरकार और कोर्ट के बीच घूम रहा अंग्रेजों के जमाने वाला समलैंगिकता कानून