Naidunia
    Sunday, December 17, 2017
    PreviousNext

    ये हैं हिंदी के नए हीरो, जानें कैसे बढ़ावा दिया हमारी भाषा को

    Published: Wed, 13 Sep 2017 09:40 AM (IST) | Updated: Thu, 14 Sep 2017 04:03 PM (IST)
    By: Editorial Team
    heroes of hindi 13 09 2017

    मल्टीमीडिया डेस्क। हिंदी समृद्ध भाषा है, लेकिन इस समृद्धता को बनाए रखने के लिए समय के साथ बदलाव जरूरी था। क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि डिजिटल वर्ल्ड पर अपनी मौजूदगी साबित करे बगैर हिंदी प्रासंगिक रह पाती? आज गूगल से लेकर यू-ट्यूब और मोबाइल तक पर हिंदी है। हम आसानी से पढ़ पाते हैं, लिखकर सर्च कर पाते हैं। हिंदी दिवस के मौके पर हम यहां ऐसे ही लोगों की बात करेंगे, जिनका हिंदी भाषा से सीधा संबंध नहीं है और वे हिंदी के बड़े ज्ञाता भी नहीं हैं, परंतु डिजिटल वर्ल्ड में हिंदी के फैलाव में उनकी भूमिका बेहद अहम है।

    1. पहला हिंदी ब्लॉग: आज कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हैं जहां हिंदीभाषी अपने विचारों की अभिव्यक्ति कर सकते हैं, लेकिन कुछ साल पहले तक ऐसा नहीं था। केवल अंग्रेजी जानने वाले ही इंटरनेट पर अपनी बात कह पा रहे थे। तब पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर आलोक कुमार ने हिंदी का पहला ब्लॉग बनाया। वे प्रथम हिंदी ब्‍लॉगर के रूप में जाने जाते हैं। ब्‍लॉग को उसका हिंदी नाम 'चिट्ठा' देने का श्रेय भी आलोक को जाता है। हिंदी का सबसे पहला ब्‍लॉग 'नौ दो ग्‍यारह' है, जिसे आलोक कुमार ने 21 अप्रैल 2003 को शुरू किया था। आज हिंदी के 50 हजार से अधिक ब्लॉग ऐसे हैं, जो नियमित अपडेट किए जाते हैं।

    2. हिंदी फूड यूट्यूब चैनल: निशा मधुलिका ने 2010 में यू-ट्यूब चैनल शुरू किया था। तब वे टाइम पास के रूप में अपनी बनाई रेसिपी के वीडियो अपलोड करती थीं। आज निशा यू-ट्यूब की सबसे चर्चित शेफ हैं। वे हिंदी में बोलते हुए अपनी नई-नई रेसिपी के बारे में बताती हैं। यही कारण है कि उनके चैनल पर 3.80 लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर हैं।

    3. गूगल पर ऐसे आई हिंदी: हिंदी को अपनाए बिना भारत में गूगल की लोकप्रियता संभव नहीं थी। कंपनी की प्रोडक्ट मैनेजर (इनपुट मैथड) लिंडा लिन और उनकी टीम ने इसका हल निकाला, क्योंकि फोनेटिक ट्रांसलेशन के मानकों के अभाव में हिंदी को टाइप करना संभव नहीं था। इस टीम ने इंडिक की-बोर्ड बनाकर हल निकाला। आगे चलकर यही फॉर्मूला मोबाइल पर हिंदी टाइप करते समय भी लागू हुआ।

    4. मोबाइल पर पहली बार हिंदी में समाचार: मोबाइल पर हिंदी में समाचार खोजना जून 2016 में संभव हुआ। तब गूगल के प्रोडक्टर मैनेजर (इंटरनेशनल सर्च) शेखर शरद और उनकी टीम ने बताया था कि अंग्रेजी में 'samachar' लिखने पर हिंदी में सर्च परिणाम सामने आएंगे। 'samachar' ही नहीं, 'new', 'movies', 'celebrities', 'sports' जैसी सर्च क्वेरिज के परिणाम भी हिंदी में आने लगे थे। इससे मोबाइल पर हिंदी का जबरदस्त विस्तार हुआ।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें