पटना। बिहार की पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा चाहे जो भी दलीलें दें, लेकिन उनके पति चंदेश्वर वर्मा के कॉल डिटेल रिकॉर्ड (सीडीआर) की जांच में यह भी पर्दाफाश हुआ है कि उन्होंने इस साल जनवरी से लेकर मई के बीच एक-दो बार नहीं बल्कि कुल नौ बार मुजफ्फरपुर की यात्रा की थी।

अब यह पता लगाया जाएगा कि उनका वहां जाने का मकसद क्या था। यह तथ्य सामने आने के बाद कि उन्होंने विगत जनवरी से मई के बीच ब्रजेश ठाकुर से कुल 17 बार फोन पर बातचीत की थी, मंजू वर्मा को समाज कल्याण मंत्री के पद से बुधवार को इस्तीफा देना पड़ा था।

जब सीबीआइ ने चंदेश्वर वर्मा के सीडीआर की जांच की तो टावर लोकेशन के माध्यम से यह भी पता चला कि वह पांच महीनों में नौ बार मुजफ्फरपुर गए थे। गौरतलब है कि मुजफ्फरपुर न तो मंजू वर्मा का गृह जिला है और न ही उनके पति का।

ऐसे में यह भी साफ हो गया है कि चंदेश्वर वर्मा जब भी मुजफ्फरपुर गए, वहां कुछ घंटे रुके। सीबीआइ यह भी पता लगाने में जुटी है कि वर्मा के साथ उस समय ब्रजेश ठाकुर भी उनके साथ मौजूद था या नहीं। सीबीआइ के डीआइजी ने ली जानकारी

बालिका गृह प्रकरण में जांच के लिए गुरुवार को सीबीआइ के डीआइजी मुजफ्फरपुर पहुंचे। सर्किट हाउस में एसएसपी हरप्रीत कौर व केस की पूर्व आइओ ज्योति कुमारी से पूछताछ कर विभिन्न बिंदुओं पर जानकारी ली।

करीब एक घंटे बाद एसएसपी वहां से निकल गईं, लेकिन महिला थानेदार व उनके सहयोगी अफसरों से देर शाम तक एक-एक बिंदु पर जानकारी ली गई। सीबीआइ ने पूर्व के अनुसंधानक से भी प्रत्येक कार्रवाई के बारे में अपडेट लिया। इस पर पुलिस अफसर ने जांच के दौरान जुटाए गए सारे साक्ष्यों को दिखाया।

खंगाला जा रहा संपत्ति का भी रिकॉर्ड

दूसरी ओर सीबीआइ की एक टीम ब्रजेश की संपत्ति का भी रिकॉर्ड खंगाल रही है। गुरुवार को सीबीआइ अधिकारियों ने शहर के कई बैंकों से संपर्क स्थापित किया। ब्रजेश की संस्थाओं के बैंक खातों की जानकारी ली।

वहीं, ब्रजेश व मधु के पड़ोसियों से भी कई बिंदुओं पर पूछताछ कर जानकार ली। बुधवार को सीबीआइ निबंधन कार्यालय पहुंचकर ब्रजेश की चल व अचल संपत्ति का रिकॉर्ड मांगा था। निबंधन विभाग की तरफ से दिए गए जानकारी में ब्रजेश के करीब 25 करोड़ की संपत्ति का रिकॉर्ड मिला है।

नाइट गार्ड शोभा देवी गिरफ्तार

मधुबनी के स्थानीय बालिका गृह से 11 जुलाई की रात लापता एक बालिका (13) का अब तक कोई सुराग नहीं मिला है। हालांकि, इस मामले में पुलिस ने मधुबनी बालिका गृह की महिला नाइट गार्ड शोभा देवी को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के बाद उसे जेल भेज दिया गया।

एसपी दीपक बरनवाल ने गुरुवार को बताया कि लापरवाही बरतने एवं साक्ष्य छिपाने के आरोप में उसे गिरफ्तार किया गया है। एसपी ने बालिका के लापता होने के मामले में किसी साजिश से इन्कार किया।

कहा कि जांच में ऐसी बात नहीं मिली। इस घटना की बाबत नगर थाने में गत 12 जुलाई को प्राथमिकी दर्ज की गई थी। महिला नाइट गार्ड की लापरवाही से उक्त बालिका को भागने का मौका मिला।