नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना के मिग-21 बायसन जेट को उड़ाने वाले विंग कमांडर अभिनंदन की स्क्वाड्रन को अब फाल्कन स्लेयर्स यानी वध करने वाले स्क्वाड्रन के नाम से जाना जाएगा। यह स्पेशल यूनिफार्म पैच होगा, जिसमें पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराने का गर्व होगा। अभिनंदन की यूनिट खुद को 'एम्राम डॉजर्स' ‘AMRAAM Dodger’ कहकर भी पुकारती है क्योंकि मिग-21 विमान ने एफ-16 विमान से दागी गई इस मिसाइल को चकमा दे दिया था।

इस नए स्पेशल पैच में विंग कमांडर की यूनिट को मिग-21 बायसन प्लेन को आगे की तरफ दिखाया गया है, जबकि लाल रंग से एफ-16 विमान को पृष्ठभूमि में दर्शाया गया है। यह कपड़े के बने बैच हैं, जिनमें स्क्वाड्रन की भूमिका को दर्शाया गया है। इसमें अक्सर उन अहम संघर्षों की पहचान की जाती है, जिसमें स्वाड्रन ने हिस्सा लिया होता है। इसमें उस विमान को भी दिखाया जाता है, जो वह स्क्वाड्रन उड़ा रही होती है।

कोई भी स्क्वाड्रन इस तरह के कंधे पर पहने जा सकने वाले बैच को अपनी उपलब्धियों और सफलता की कहानी बयां करने के लिए पहन सकती है। हालांकि, वायुसेना आधिकारिक तौर पर इस तरह के बैच जारी नहीं करती है।

बताते चलें कि पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में 26 फरवरी को एयर स्ट्राइक की थी। इसके जवाब में पाकिस्तानी वायुसेना ने भारतीय सीमा में घुसने की कोशिश की थी, जिसे भारतीय वायुसेना ने नाकाम कर दिया था। इस दौरान मिग-21 उड़ा रहे विंग कमांडर अभिनंदन ने पाकिस्तान के एफ-16 को मार गिराया था, जो 51वीं स्कॉवड्रन में तैनात थे। इस तरह अभिनंदन ने धैर्य, दृढ़ संकल्प और बहादुरी का परिचय दिया था।

हालांकि, उनका भी विमान इस हमले में नष्ट हो गया था, जिसके बाद पाकिस्तानी सेना ने उन्हें हिरासत में ले लिया था। इसके बाद भारतीय कूटनीति के आगे झुकते हुए पाकिस्तान ने एक मार्च 2019 को विंग कमांडर को सही-सलामत भारत के हवाले कर दिया था।

वर्धमान दोनों देशों के बीच हुए सैन्य टकराव का चेहरा बन गए थे। पिछले महीने उन्हें श्रीनगर से बाहर स्थानांतरित कर दिया गया था और पश्चिमी क्षेत्र में एक फ्रंटलाइन एयर बेस पर तैनात किया गया था। भारतीय वायुसेना वर्धमान को युद्धरत गैलेंट्री मेडल वीर चक्र को देने की सिफारिश कर रही है।