नई दिल्ली। जेट एयरवेज द्वारा घरेलू एवं अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को निलंबित करने के खिलाफ दायर की गई एक याचिका पर हाई कोर्ट में एक मई को सुनवाई होगी।

बेंच ने याचिका पर सवाल उठाते हुए कहा है कि यह याचिका सिर्फ पब्लिसिटी के लिए है। यही कारण है कि अदालत में सुनवाई से पहले ही यह मीडिया के दायरे में आ गई।

याचिकाकर्ता ने याचिका दायर करते हुए जेट एयरवेज की उड़ाने निलंबित होने के बाद यात्रियों को पैसे वापस करने या फिर वैकल्पिक विमान सेवा सुनिश्चित कराने के निर्देश देने की मांग की है। इस याचिका पर अब हाई कोर्ट ने नागरिक उड्डयन मंत्रालय और डीजीसीए से जवाब मांगा है।

याचिकाकर्ता का नाम बेजोन कुमार मिश्रा है। उन्‍होंने याचिका में दलील दी कि जेट एयरवेज द्वारा अचानक हवाई सेवाओं को निरस्‍त करने के कारण यात्रियों के सामने संकट पैदा हो गया है।