मैसूर। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने सोमवार को कहा कि देश एक गठबंधन सरकार की ओर बढ़ रहा था क्योंकि राजनीतिक नेतृत्व के दावों के बावजूद न तो कांग्रेस और न ही भाजपा को पूर्ण बहुमत मिलेगा। उन्होंने कहा कि देश का मिजाज स्पष्ट रूप से सांप्रदायिक और विभाजनकारी ताकतों को खारिज कर यूपीए सरकार लाने के पक्ष में है।

कांग्रेस के इस वरिष्ठ नेता का अनुमान है कि दोनों राष्ट्रीय दलों में से कोई भी 543 में से 150 अंक को पार करने की स्थिति में नहीं है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस अपने सहयोगी जनता दल के साथ मिलकर 28 संसदीय क्षेत्रों में से लगभग 20 सीटें जीतने की उम्मीद कर रही है। राज्य में 18 अप्रैल को पहले चरण का मतदान होना है।

एक इंटरव्यू के दौरान सिद्धारमैया ने कहा, 'कांग्रेस और भाजपा दोनों ही अपने दम पर पूर्ण बहुमत पाने की स्थिति में नहीं दिखती हैं। हालांकि यूपीए को स्पष्ट बहुमत मिलेगा।'

दावे और वास्तविकता दो अलग-अलग चीजें हैं, यह कहते हुए उन्होंने बोला कि कोई मोदी लहर नहीं है। इसके विपरीत, विभाजनकारी और सांप्रदायिक ताकतों पर अंकुश लगाने के इच्छुक लोगों की बढ़ती लहर है। इसने एनडीए के दूसरे कार्यकाल के लिए पूर्ण विराम लगा दिया है।