बरेली। उत्तर रेलवे के गजरौला से आलमनगर सेक्शन के बीच डाउन लाइन पर पांच-पांच घंटे के ब्लॉक से करीब दर्जनभर ट्रेनें प्रभावित हुईं। रेलवे ने कुछ ट्रेनों के चार घंटे देरी से संचालित होने की आशंका जताई थी, लेकिन हकीकत में ट्रेनें दस घंटे से भी ज्यादा देरी से जंक्शन पहुंची। मेगा ब्लॉक के चलते लोगों को खासा परेशानी भी उठानी पड़ी।

यहां लिया गया ब्लॉक

रामपुर से बरेली जंक्शन के बीच शुक्रवार सुबह नौ बजे से दोपहर दो बजे तक रेलवे ट्रैक मेंटीनेंस हुआ। बरेली से रोजा जंक्शन के बीच सुबह 09.45 बजे से दोपहर 02.45 बजे तक ब्लॉक लेकर स्लीपर बदले गए और रेलवे ट्रैक दुरुस्त किया गया। उधर, गजरौला से मुरादाबाद सेक्शन के बीच सुबह 08.50 बजे से दोपहर 01.50 बजे तक, मुरादाबाद-रामपुर सेक्शन के बीच 09.10 बजे से दोपहर 02.10 बजे तक ब्लॉक लिया गया।

ये ट्रेन हुईं प्रभावित

जम्मूतवी से कोलकाता के बीच चलने वाली सियालदह एक्सप्रेस (13152) जंक्शन पर करीब सात घंटा देरी से पहुंची। इसी तरह जम्मूतवी से हावड़ा के बीच चलने वाली हिमगिरी एक्सप्रेस (12332) तय समय से छह घंटा देरी से जंक्शन आई। डाउन लाइन की अवध आसाम एक्सप्रेस (15910) 10 घंटे लेट रही। वहीं, अपलाइन पर भी अवध आसाम एक्सप्रेस करीब पौने सात घंटा देरी से जंक्शन पहुंची। कुंभ एक्सप्रेस (12369) पर सफर करने के लिए भी मुसाफिरों को नौ घंटे तक इंतजार करना पड़ा।

इसके अलावा त्रिवेणी एक्सप्रेस तकरीबन तीन घंटा देरी से रवाना हुई। अकालतख्त एक्सप्रेस (12318) और काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस (14258) भी लेट रहीं। शुक्रवार को डाउन लाइन पर मेगा ब्लॉक लिया गया। इसके बाद रविवार को अपलाइन पर मेगा ब्लॉक लिया जाएगा। रविवार को मुसाफिरों के लिए दिल्ली या इस रूट का सफर ज्यादा लंबा हो सकता है।