न्यूयॉर्क/नई दिल्ली। मॉडल बनने की ख्वाहिश हो और तेजाब हमले में चेहरा बुरी तरह बिगड़ जाए तो सबकुछ खत्म हो जाता है, लेकिन मोनिका सिंह इतनी जल्दी कहां हार मानने वाली थीं।

मूलरूप से लखनऊ की मोनिका पर दस साल पहले दिल्ली के नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी में फैशल डिजाइनर का कोर्स करते समय तेजाब से हमला हुआ था। तब मोनिका की उम्र 19 वर्ष थी।

छह साल से उनके परिचित एक युवक ने शादी का प्रस्ताव रखा था, लेकिन मोनिका पहले करियर बनाना चाहता थीं, इसलिए इनकार कर दिया।

युवक ने ईर्ष्यावश मोनिका पर तेजाब से हमला कर दिया। हमला इतना भयानक था कि एक बार तो डॉक्टरों ने उनके जिंदा बचने की संभावना से इनकार कर दिया था, लेकिन स्टॉकब्रोकर पिता महेंद्र, मां सविता और भाई निखिल की मदद से मोनिका मौत को मात देकर लौट आईं।

पिता ने 50 लाख रुपए की अपनी जीवनभर की पूंजी खर्च कर बेटी के 46 ऑपरेशन करवाए। अब मोनिका नई जिंदगी शुरू करने जा रही हैं।

उन्होंने न्यूयॉर्क फैशन स्कूल में प्रवेश लिया है। यहां से टॉम फोर्ड और मार्क जैकब्स जैसी हस्तियां पढ़ाई कर चुकी हैं।

दुखद यह है कि दो साल पहले ही उनके पिता की मृत्यु हो गई। उनकी फीस के लिए फंडिग कैम्पेन चलाकर 50,000 डॉलर जुटाए गए। मोनिका कहती हैं, मेरा सपना करियर और एजुकेशन के क्षेत्र में अच्छा काम करना है, ताकि मेरे पापा गर्व महसूस कर सकें। साथ ही मोनिका एक गैरसरकारी संगठन की वाइस प्रेसीडेंट हैं, जो एसिड पीड़ितों की मदद करता है।