तिरुअनंतपुरम। केरल तट के निकट गुरुवार सुबह तीन और शव बरामद होने के बाद चक्रवात 'ओखी' के कारण मरने वालों की संख्या 36 हो गई है। इस बीच, रक्षा सूत्रों ने बताया कि मालदीव के आसपास अंतरराष्ट्रीय जल सीमा तक खोज और बचाव अभियान चलाया जाएगा। यह फैसला तमिलनाडु के कन्याकुमारी जिले के कुछ मछुआरों के अनुरोध पर किया गया है।

मछुआरों ने यहां दक्षिणी एयर कमान से जांच अभियान को अंतरराष्ट्रीय जल सीमा तक बढ़ाने की मांग की थी, जिससे 72 नावों पर सवार उन 1,200 मछुआरों को पता लगाया जा सके, जो चक्रवात के कारण संभवतः अंतरराष्ट्रीय जल सीमा में पहुंच गए हैं।

सूत्रों ने बताया कि मछुआरों के आग्रह पर राज्य सरकार ने केंद्र से मदद मांगी, जिसे रक्षा मंत्रालय ने स्वीकार कर लिया। रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार सुबह मालदीव के आसपास सी-130जे हरक्यूलस परिवहन विमान को भेजने की मंजूरी दे दी है। लापता मछुआरे तमिलनाडु में वल्लीविलई, तूतूर, नीरोडी, पुत्तानथुरई, पोत्तथुरई, मार्तंडमथुरई के हैं।

उधर, सैकड़ों मछुआरों ने केरल सीमा पर स्थित कुजिथुरई स्टेशन पर रेल रोकने का प्रयास किया। दरअसल, दक्षिण रेलवे ने दो ट्रेनों को तिरुचिरापल्ली-त्रिवेंद्रम इंटरसिटी और कोचुवेली-नागरकोइल पैसेंजर को रद्द कर दिया है।

इसके अलावा पांच अन्य ट्रेनों को आंशिक रूप से रद्द किया है। अधिकारियों के अनुसार, केरल के 96 मछुआरों का अब भी कुछ अता-पता नहीं है। लापता मछुआरों को पता लगाने के लिए बचाव अभियान पूरे जोरों पर चल रहा है।