अलीगढ़। हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले में न्यायिक अफसर की पानी की बोतल में चपरासी द्वारा यूरीन मिलाने की घटना के बाद अलीगढ़ में भी ऐसा ही घृणित कृत्य सुर्खियों में आया है। यहां एक न्यायिक अफसर को उनका चपरासी पानी देने से पहले गिलास में थूकता था। चपरासी का यह घृणित कृत्य कैमरे में कैद हो चुका है और सोशल मीडिया पर भी वायरल हो चुका है। आरोपित चपरासी को निलंबित करते हुए विभागीय जांच बैठा दी गई है।

मामला चार दिन पुराना बताया जा रहा है। जिले में तैनात न्यायिक अफसर के पीने का पानी कार्यालय में बोतल में रखा जाता है। चपरासी इसी बोतल से पानी गिलास में भरकर अफसर को देता था। न्यायिक अफसर के मुताबिक एक रोज चपरासी की हरकतें देखकर कुछ गलत होने का शक हुआ। इसके बाद उन्होंने अपने केबिन में टेबिल पर छिपा कर कैमरा लगवा दिया।

कैमरे में चपरासी की हरकत कैद हो गई। 2 मिनट 18 सेकंड के इस वीडियो को जब अफसर ने देखा तो स्तब्ध रह गए। चपरासी ने बोतल से गिलास में पानी डाला, फिर कुछ क्षण रुककर उसमें थूक दिया। फिर, यही पानी अदालत में सुनवाई कर रहे न्यायिक अफसर को देने चला गया।

यह वीडियो हमारे सहयोगी प्रकाशन "दैनिक जागरण" के भी पास है। चपरासी ने ऐसा क्यों किया, यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है। जिला जज प्रेम कुमार सिंह ने इस मामले में चपरासी के निलंबन और जांच बिठाने की पुष्टि की है। इसके पहले, हमीरपुर (हिमाचल प्रदेश) में भी ऐसा मामला सामने आया था। वहां न्यायिक अफसर ने शक होने पर बोतल में भरे पानी की जांच कराई थी। इसमें यूरीन मिले होने की पुष्टि हुई थी। इसके बाद चपरासी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया था।