नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा है कि महिला सशक्तीकरण की दिशा में उज्जवला योजना सार्थक कदम है। राष्ट्रपति भवन में आयोजित एलपीजी पंचायत के दौरान उन्होंने यह बात कही। पेट्रोलियम मंत्रालय ने इस कार्यक्रम का आयोजन किया था। इसका उद्देश्य एलपीजी उपभोक्ताओं के बीच तालमेल कायम करना है।

31 मार्च 2019 से पहले मंत्रालय देश भर में ऐसी एक लाख पंचायतें आयोजित करने जा रहा है। इनमें सौ उपभोक्ता अपने घर के नजदीक होने वाली पंचायत में हिस्सा लेंगे और एक दूसरे से अपने अनुभव साझा करेंगे। इनमें एलपीजी के फायदे, साफ ईधन व महिला सशक्तीकरण पर मंथन होगा। राष्ट्रपति का कहना है कि ये पंचायतें बहुत ज्यादा फायदेमंद साबित होंगी।

पीएम से मिले लोग

एलपीजी पंचायत में भागीदारी करने देश के विभिन्न हिस्सों से आए लोगों ने पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। लोगों ने उन्हें बताया कि कैसे एलपीजी कनेक्शन मिलने के बाद उनकी जिंदगी बदल गई। इस दौरान पीएम ने उनका आह्वान किया कि वे लड़कियों के प्रति होने वाले भेदभाव को दूर करने के लिए कोशिशें करें।

मोदी ने यह भी कहा कि लोग स्वच्छता अभियान से जुड़कर और लोगों को इसमें शामिल करें। इससे न केवल स्वास्थ्य बेहतर होगा बल्कि लोगों का जीवन स्तर भी ऊंचा उठेगा। गौरतलब है कि उज्जवला योजना के तहत गरीब परिवारों की महिलाओं को गैस कनेक्शन उपलब्ध कराए जाते हैं।