मुंबई। जेट एयरवेज इन दिनों आर्थिक संकट से जूझ रही है। ऐसे में कर्जदाता बैंक्स इसकी संपत्तियों की नीलामी कर रहे हैं। इसी दौरान यह जानकारी सामने आई कि बोली के दौरान फ्लोरिडा के कॅालेज प्रोफेसर शंकरन रघुनाथन के नेतृत्व वाला समूह इसकी हिस्सेदारी खरीदने में लगा है।

दरअसल वे कंपनी के माइनॉरिटी स्टेहोल्डर्स का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। जो कि काफी बड़ी राशि जुटाने में लगे हैं। शंकरन और उनका समूह 21,500 करोड़ रुपए जुटाने में लगा है। इसके अलावा कई छोटे और बड़े समूह इस कंपनी में भागादारी करना चाहते हैं।कुछ अन्य समूह और लोग हैं जो कि इसमें निवेश के इच्छुक हैं।

उनमें आईटी फर्म सोनाटा सॉफ्टवेयर के चीफ एग्जिक्यूटिव रहे संजय विश्वनाथन भी शामिल हैं। हांलाकि वे अब स्वयं का व्यवसाय प्रारंभ कर चुके हैं और एडि पार्टनर्स के नाम से उनकी कंपनी व्यवसाय कर रही है। यह कंपनी भी जेट में भागीदारी की खरीद करने में दिलचस्पी ले रही है।

जेसन अन्सवर्थ का नाम भी शामिल है। वे जेट एयरवेज में निवे करने वाले पहले निवेशक हैं। हांलाकि उन्होंने अनुभवी कंसल्टेंट्स का नेटवर्क तैयार किया हुआ है साथ ही एयरलाइन प्रोफेशनल्स की एक स्टार्टअप टीम बनाई है जो कि नई एयरलाइन तक लांच कर सकती है। दूसरी ओर डारविन ग्रुप द्वारा कंपनी में 14,000 करोड़ रुपए निवेश करने का ऑफर दिया गया है। एतिहाद एयरवेज की जेट में 24 प्रतिशत की भागीदारी है और वह इसे इससे अधिक नहीं बढ़ाएगी।