नई दिल्ली। राफेल पर संसद में लगातार दूसरे दिन चर्चा होनी थी लेकिन सुबह से लेकर दोपहर तक का सत्र एक बार फिर से हंगामे की भेंट चढ़ गया। इस दौरान सांसदों के खराब व्यवहार से नाराज होकर लोकसभा स्पीकर ने टीडीपी के 10 और एआईएडीएमके के 7 सांसदों को अगले चार दिनों के लिए सस्पेंड कर दिया। यह सभी सांसद सदन की वेल में आकर हंगामा कर ररहे थे। इस दौरान सदन की कार्यवाही भी स्थगित करनी पड़ गई।

खबरों के अनुसार सदन में एआईएडीएमके सांसद नवनीत कृष्णन ने कावेरी नदी पर बांध का मुद्दा उठाते हुए कहा कि लोकसभा से हमारी पार्टी के सभी सांसद सस्पेंड कर दिए गए हैं जो कि पूरी तरह असंवैधानिक है। उन्होंने कहा कि हम अपनी बात अब कैसे रखते हैं।

वहीं टीडीपी के सांसद आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर वेल में आकर प्रदर्शन कर रहे थे। सदन में कागज उड़ाए जा रहे हैं। इस पर संसदीय कार्य मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि इस तरह के व्यवहार से सदन की मर्यादा धूमिल हो रही है, राफेल समेत कई अहम विषयों पर चर्चा होनी है, इसलिए वेल में आए सांसद अपनी सीट पर वापस जाएं। इस दौरान सांसदों ने यहां कागज भी उड़ाए।

इससे नाराज स्पीकर ने टीडीपी के 10 और एआईएडीएमके के सात सांसदों को सदन की वेल में आने पर अगले चार दिनों के लिए सस्पेंड कर दिया है। स्पीकर ने सांसदों का नाम लेते हुए कहा कि आप लोगों सदन की कार्यवाही को जानबूझकर बाधित करने का काम किया है। इसलिए आप लोग सत्र के बचे हुए 4 दिनों के लिए सदन की कार्यवाही से बाहर किए जाते हैं। हंगामे के बाद स्पीकर ने सदन की कार्यवाही 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी है।