बैगलुरु। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बेंगलुरु में आईटी प्रोफेशनल्स के खिलाफ की गई पुलिस कार्रवाई की निंदा की है। पुलिस कार्रवाई की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि राहुल गांधी और कांग्रेस को वक्त की नजाकत को समझना चाहिए और युवाओं को डराने-धमकाने के काम बंद करना चाहिए, क्योंकि देश के युवा आपकी राजनीति को भली-भांति समझ चुके हैं।

सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बैंगलुरु में रैली थी। राहुल गांधी के भाषण के दौरान नजदीक के मान्यता टेक पार्क में कुछ आईटी प्रोफेशनल्स इकट्ठा हो गए थे। रैली के दौरान वह पीएम मोदी के समर्थन में 'मोदी-मोदी' के नारे लगा रहे थे। प्रदर्शन कर रहे आईटी प्रोफेशनल्स का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें यह दिखाई दे रहा है कि पुलिसवाले आईटी प्रोफेशनल्स का पीछा कर रहे हैं, जो 'मोदी-मोदी' के नारे लगा रहे हैं प्रदर्शनकारी राहुल गांधी से सभास्थल को छोड़ने की मांग करते हुए तख्तियों को उछाल रहे हैं। पुलिस प्रदर्शनकारियों को खदेड़ रही है और पार्क को खाली करवा लिया जाता है।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने की निंदा

भाजपा का आरोप है कि पुलिस ने कई प्रदर्शनकारियों को जिनमें कई आईटी प्रोफेशनल्स शामिल है, को गिरफ्तार किया है। भाजपा ने पुलिस की इस कार्रवाई की निंदा की है। भाजपा अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को आड़े हाथों लिया है और कहा है कि युवाओं को धमकाना बंद करे वे आपकी ब्रांड पोलिटिक्स को खारिज कर चुके हैं।

उन्होंने कहा कि 'टुकड़े-टुकड़े' गैंग को गले लगाना और शांत तरीके से प्रदर्शन कर रहे युवाओं को गिरफ्तार करना कहां का इंसाफ है। अब अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के समर्थक कहां हैं? यह जेडीयू-कांग्रेस सरकार का असली चेहरा है, जहां तानाशाही तरीके से अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को दबाया जा रहा है।

पुलिस ने आरोपों से किया इंकार

इस मामले में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सी टी रवि ने आरोप लगाया कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आईटी प्रोफेशनल्स पर हमला किया है, जो 'मोदी-मोदी' को नारे लगा रहे थे। वहीं इस मामले में पुलिस का कहना है कि उन्होंने सिर्फ नारेबाजी कर रहे लोगों को जगह से बिना बलप्रयोग किए हटाया है। किसी को भी इस मामले में गिरफ्तार नहीं किया है।

वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को भी कुछ इसी तरह की परिस्थितियों का सामना करना पड़ा। प्रियंका गांधी जब अपनी गंगा यात्रा के दौरान मिर्जापुर के मशहूर विंध्यवासिनी देवी मंदिर पहुंची तो वहां पर भी कुछ लोगों ने 'मोदी-मोदी' के नारे लगाए।