लखनऊ। मदरसों पर विवादित बयान देकर चर्चा में आए शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कर्बला तालकटोरा में अपने पिता की कब्र के बगल में दस साल पहले खरीदी गई जमीन में अपनी कब्र तैयार करवा ली है। यह कदम उन्होंने सोशल मीडिया व फोन पर मिल रही धमकियों के बाद उठाया है। उन्होंने प्रमुख सचिव गृह को इस संबंध में अवगत कराते हुए कार्रवाई की मांग भी की है।

वसीम रिजवी ने बताया कि उनको आये दिन धमकियां मिल रही हैं। इस वजह से उन्हें ऐसा कदम उठाना पड़ा। हालांकि, उनके मुताबिक यह कब्र की जमीन उन्होंने दस साल पहले खरीदी थी। चंद दिनों से बिगड़े महौल को देखते हुए उन्होंने कब्र अपनी आखों के सामने बनवाने की ठानी। इसी के तहत शुक्रवार को कब्र तैयार कराने का काम करीब-करीब पूरा हो गया है।

हालांकि, मुस्लिम धर्म गुरुओं ने वसीम रिजवी के इस कदम को सिर्फ तमाशा बताया है और कहा कि यह सरकार से सुरक्षा हासिल करने के लिए सिर्फ हथकंडा है। उलमा का कहना है कि इंतकाल से पहले अपनी कब्र खरीदना नई बात नहीं है। इनको हयाती कब्र कहते हैं।