सिलीगुड़ी। एक समय उत्तर बंगाल में अलग राज्य की मांग को लेकर आतंक फैलाने वाले उग्रवादियों के सरेंडर करने पर ममता सरकार ने उन्हें नौकरी दी है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कामतापुर लिबरेशन ऑर्गेनाइजेशन (केएलओ) के सरेंडर कर चुके 42 उग्रवादियों को मुख्यधारा में वापस लाने की पहल की है। केएलओ के 42 उग्रवादियों ने समाज की मुख्यधारा में लौटने की घोषणा करते हुए सरेंडर किया था।

गुरुवार को सिलीगुड़ी स्थित मिनी सचिवालय में प्रशासनिक बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने उनमें से केएलओ के 36 पूर्व सदस्यों को होमगार्ड की नौकरी का नियुक्ति पत्र सौंपा। इस दौरान पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ ही उत्तर बंगाल के कई मंत्री भी मौजूद थे। केएलओ लंबे समय से अलग राज्य कामतापुर या ग्रेटर कूचबिहार की मांग कर रहा है। हाल ही में इसके चार सदस्यों को सीआईडी ने गिरफ्तार किया था। गिरफ्तार उग्रवादियों में सरगना निर्मल राय उर्फ निर्मल बाबा भी शामिल था। इन सभी को सीआइडी ने हिरासत में रखा है।