श्रीनगर। कश्मीर के विभिन्न हिस्सों में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में छह आतंकियों को मार गिराया। इस मुठभेड़ में एक सैन्यकर्मी भी शहीद हुआ है, जबकि दो अन्य जख्मी हुए हैं। मारे गए आतंकियों में 15 लाख का इनामी खालिद भाई भी शामिल है। क्रॉस फायरिग में एक स्थानीय युवक की भी मौत हो गई।

सुरक्षाबलों की आतंकियों के साथ पहली मुठभेड़ पुलवामा जिले के डलीपोरा में हुई। इसमें जैश कमांडर और 15 लाख के इनामी खालिद भाई समेत उसके दो साथियों को मार गिराया गया। इस मुठभेड़ में एक सैन्यकर्मी भी शहीद हो गए। शहीद जवान की पहचान संदीप (28), गांव-बेहलबा, तहसील-रोहतक, जिला-रोहतक, हरियाणा के रूप में हुई है। आतंकियों के मारे जाने की खबर फैलते ही पुलवामा और शोपियां में हिसक झड़पें शुरू हो गई। इसमें छह लोग जख्मी हो गए हैं। प्रशासन ने हालात को देखते हुए पुलवामा और उससे सटे इलाकों में कर्फ्यू लागू करने के साथ ही मोबाइल इंटरनेट को बंद कर दिया है।

गुरुवार तड़के सुचना मिली कि डलीपोरा में आतंकियों का एक दल आधी रात के बाद आया है। सूचना मिलने पर पर सेना की 55 आरआर और राज्य पुलिस विशेष अभियान दल के जवानों ने संयुक्त रूप से तलाशी अभियान चलाया। इस दौरान तड़के करीब सवा तीन बजे जवानों ने जैसे ही आतंकी ठिकाने की घेराबंदी शुरू की, अंदर छिपे आतंकियों ने पहले ग्रेनेड फेंका और उसके बाद उन्होंने अपने स्वचालित हथियारों से फायरिग कर वहां से भागने की कोशिश की।

इसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। मुठभेड़ में तीन सैन्यकर्मी संदीप कुमार, सिपाही अरुणेश और सिपाही रविद्र गंभीर रूप से घायल हो गए। तीनों को उसी समय उपचार के लिए श्रीनगर स्थित सेना के 92 बेस अस्पताल में उपचार के लिए लाया गया, जहां संदीप कुमार की मौत हो गई। वहीं, क्रॉस फायरिग की चपेट में आकर एक युवक रईस की भी मौके पर ही मौत हो गई। जबकि एक अन्य घायल हुआ है।

पांच घंटे तक चली मुठभेड़ में तीन ढेर

डलीपोरा में करीब पांच घंटे चली मुठभेड़ में तीनों आतंकी मारे गए और उनका ठिकाना बना मकान भी तबाह हो गया। मारे गए आतंकियों की पहचान जैश-ए-मोहम्मद के डिवीजनल कमांडर खालिद भाई निवासी पाकिस्तान और उसके दो अन्य साथियों नसीर अहमद पंडित निवासी करीमाबाद पुलवामा और उमर मीर निवासी बेथीपोरा शोपियां के रूप में हुई है।

शोपियां में भी तीन आतंकी मारे गए

पुलवामा में आतंकियों को मार गिराने के बाद शाम करीब साढ़े चार बजे सेना और पुलिस के एक संयुक्त कार्यदल ने शोपियां जिले के हेंद और इमाम साहब इलाके में आतंकियों के छिपे होने की सूचना पर अभियान चलाया। यहां भी सुरक्षाबलों ने भीषण मुठभेड़ में तीनों आतंकियों को मार गिराया। मुठभेड़ में एक जवान भी जख्मी हुआ है। फिलहाल, सुरक्षाबलों ने मारे गए आतंकियों के अन्य साथियों की धरपकड़ के लिए पूरे इलाके की घेराबंदी करते हुए तलाशी अभियान चला रखा है।

वहीं दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के आरीपोरा में आतंकियों ने सेना की 44 आरआर के जवानों के गश्तीदल पर घात लगाकर हमला किया। सतर्क जवानों ने खुद को बचाते हुए जवाबी फायरिग शुरू कर दी। इस पर आतंकी वहां से जान बचाते हुए भाग निकले।

आठ साल से सक्रिय था 15 लाख का इनामी आतंकी

आतंकी खालिद बीते आठ साल से कश्मीर में सक्रिय था। 15 लाख के इनामी खालिद ने ही दिसंबर 2017 में पुलवामा के लिथपोरा स्थित सीआरपीएफ कैंप पर आत्मघाती हमले की साजिश में शामिल था। आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के पांच कर्मी शहीद हुए थे और तीनों हमलावर आतंकी फरदीन अहमद खांडे, मंजूर बाबा और अब्दुल शकूर जवाबी कार्रवाई में मारे गए थे।