नई दिल्ली। 17वीं लोकसभा का बजट सत्र शुरू हो चुका है और इसी के तहत मंगलवार को लगातार दूसरे दिन नवनिर्वाचित सांसदों ने लोकसभा में शपथ ग्रहण की। शपथ ग्रहण करने वालों में यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी और सपा नेता मुलायम सिंह यादव भी थे। शपथ ग्रहण करने वालों में कुछ सांसदों ने हिंदी तो कुछ ने संस्कृत में शपथ ली। जबकि कुछ सासंद ऐसे थे जिन्होंने उर्दू में शपथ ली और उनमें संभल से सपा के सांसद शफीकुर रहमान थे।

इतना ही नहीं, सासंदों की शपथ ग्रहण के दौरान कुछ ऐसे पल भी आए जब सदन में खींचतान नजर आई फिर चाहे सोमवार को साध्वी प्रज्ञा की शपथ के दौरान गुरु का नाम लेने पर हंगामा हो या फिर मंगलवार को आप सासंद भगवंत मान ने शपथ के बाद इंकलाब जिंदाबाद का नारा लगाकर माहौल बदल दिया।

वहीं इनके अलावा हैदराबाद से सांसद और एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन औवेसी ने भी सदन में शपथ ली लेकिन इस दौरान सदन में जय श्री राम और वंदे मातरम के अलावा जय हिंद के नारे गूंज उठे। औवेसी भी पीछे नहीं रहे और शपथ के बाद उन्होंने भी यह भीम, जय मीम, तनवीर, अल्लाह-हु-अकबर जैसे नारे लगाए। वैसे इस पूरी नारेबाजी की कवायद के बीच औवेसी रजिस्टर में साइन करना भूल गए और टोके जाने के बाद साइन की।

शपथ ग्रहण के बाद जब औवेसी बाहर निकले तो उन्होंने नारेबाजी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अच्छा है मुझे देखकर उन्हें यह याद आए। उम्मीद है कि वो संविधान और मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत भी याद रखेंगे।

वहीं संभल से सपा के सांसद शफीकुररहमान ने तो शपथ ग्रहण करने के बाद पूरे सदन के सामने ही वंदे मातरम को इस्लाम के खिलाफ करार देते हुए कहा दिया कि वो इसे फॉलो नहीं करेंगे।

बता दें कि आज भी सदन में हेमा मालिनी, सन्नी देओल, सपा नेता मुलायम सिंह समेत अन्य नवनिर्वाचित सांसदों ने भी शपथ ग्रहण की।