हैदराबाद की रहने वाली तारकेश्वरी की किस्मत मुद्रा लोन ने बदल दी। मुद्रा स्कीम के तहत उन्होंने 5 लाख का लोन लिया और अब वह साल में 75 लाख रुपए की कमाई कर लेती है। वह तारा'स स्‍टाइलिंग नाम का बुटीक चलाती है जिसमें ड्रेस मटेरियल से लेकर सूट्स-साड़ी का बिजनेस करती हैं। तारकेश्वरी ने 5 लेबर हायर किए हैं और उनके एनआरआई क्लाइंट्स ज्यादा हैं।

एक समय था जब वह अपना एक ऑर्डर भी पूरा मुश्किल होता था, लेकिन लोन लेने के बाद जब पूरा बिजनेस खड़ा किया तो अपने हुनर को बढ़ाती चली गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉन्च की गई मुद्रा स्कीम के तहत लोन लेने वाले लोगों के सफलता की कहानी सरकार ने शेयर की है। इनमें से एक तारकेश्वरी की सक्सेस स्टोरी भी शामिल हैं।

गौरतलब है कि मुद्रा योजना के तहत बिना गारंटी के लोन मिलता है। इसके अलावा लोन के लिए कोई प्रोसेसिंग चार्ज भी नहीं लिया जाता है। मुद्रा योजना में लोन चुकाने की अवधि को 5 साल तक बढ़ाया जा सकता है। लोन लेने वाले को एक मुद्रा कार्ड मिलता है, जिसकी मदद से कारोबारी जरूरत पर आने वाला खर्च किया जा सकता है।

कोई भी व्यक्ति जो अपना व्यवसाय शुरू करना चाहता है या अपना मौजूदा कारोबार आगे बढ़ाना चाहता हैं तो प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत 10 लाख रुपए तक के लोन के लिए आवेदन कर सकता हैं। मुद्रा स्कीम के तहत मुद्रा लोन को विभिन्न व्यवसायों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए तीन भागों में विभाजित किया है। मुद्रा योजना के तहत लोन के तीन प्रकार हैं। शिशु ऋण के तहत 50,000 रुपए तक के लोन दिए जाते है। किशोर ऋण के तहत 50,000 रुपए के ऊपर और 5 लाख रुपए तक के लोन दिए जाते है। तरुण ऋण के तहत 5 लाख रुपए से ऊपर और 10 लाख रुपए तक के लोन दिए जाते है।