नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आठ साल की बच्ची से कथित दुष्कर्म और हत्या की वारदात के मुख्य गवाह तालिब हुसैन की सुरक्षा के मुद्दे पर राज्य सरकार को नोटिस जारी किया है।

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस ए एम खानविलकर और डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने जम्मू कश्मीर सरकार से मामले में जवाब मांगा है। मामले की अगली सुनवाई 21 अगस्त को होगी।

हुसैन के चचेरे भाई मुमताज ए खान की ओर से मामले में याचिका दाखिल की गई थी, जहां कोर्ट में वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने याचिकाकर्ता का पक्ष रखते हुए कहा कि हुसैन को पुलिस हिरासत में यातनाएं दी गई हैं, जबकि हिरासत में किसी भी प्रकार की यातना देना गैरकानूनी है।

हुसैन के परिवार ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करके उसकी सुरक्षा की मांग की थी। तालिब के परिवार ने आरोप लगाया गया कि उसे एक फर्जी दुष्कर्म केस में फंसाकर न्यायिक प्रताड़ना का शिकार बनाया जा रहा है। दरअसल तालिब पर महिला रिश्तेदार के साथ जोर जबरदस्ती का आरोप है। महिला की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है। इसी मामले में तालिब दस दिन की पुलिस रिमांड पर है।

बता दें कि सोमवार को तालिब हुसैन ने सांबा पुलिस स्टेशन के लॉकअप में दीवार से सिर मारकर खुदकुशी का प्रयास किया। दीवार में सिर मारने से वह बुरी तरह जख्मी हो गया, जिसका अस्पताल में इलाज जारी है। पुलिस ने आरोपित के खिलाफ खुदकुशी के प्रयास का एक और मामला दर्ज कर लिया है।