लखनऊ। इन दिनों देश में कई जगहों के नाम बदलने का सिलसिल चल रहा है। हाल ही में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इलाहाबाद का नाम प्रयागराज कर चुके हैं और फैजाबाद का नाम अयोध्या करने की घोषणा कर चुके हैं। इसके अलावा मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीन दयाल जंक्शन कर दिया गया है।

इस बीच उत्तर प्रदेश में भाजपा विधायक संगीत सोम का कहना है कि अभी कई और शहरों के नाम बदले जाएंगे। सरधना से बीजेपी विधायक संगीत सोम ने कहा कि मुजफ्फरनगर का नाम भी बदलकर लक्ष्मी नगर किया जाना ह। मुजफ्फरनगर नाम यहां के नवाब मुजफ्फर अली ने रखा था। लोगों की सदियों से मांग है कि इसका नाम लक्ष्मी नगर किया जाए।

उन्होंने कहा है कि मुगलों ने यहां की संस्कृति को मिटाने का काम किया है। खासतौर से हिन्दुस्तान को मिटाने का काम किया है। हम लोग उस संस्कृति को बचाने के लिए काम कर रहे हैं।

इसके बाद से कई राज्यों में कई शहरों और जिलों के नाम बदलने की मांग तेज हो गई है। गुजरात में मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने अहमदाबाद का नाम बदलकर कर्णावती करने की बात कही है, तो पंचमहाल के सांसद प्रभात सिंह चौहान ने पंचमहल जिले का नाम बदल कर पावागढ़ करने की मांग की है।

महाराष्ट्र में शिवसेना ने मांग की है कि औरंगाबाद और उस्मानाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर और धारशिव रखा जाए। वहीं, हैदराबाद के विधायक टी राजा सिंह ने भी कहा है कि अगर राज्य में बीजेपी सत्ता में आती है, तो हैदराबाद का नाम भाग्यनगर कर दिया जाएगा।

कांग्रेस हुई हमलावर

इस मामले में कांग्रेस प्रवक्ता आनंद शर्मा ने कहा कि जब मानसिकता इतिहास को तोड़ने मरोड़ने और उसको फिर से लिखने में है, तो नाम बदलना कोई मायने नहीं रखता। उन्होंने कहा कि बेहतरी के लिए लोगों की जिंदगी बदलना ज्यादा महत्वपूर्ण है। लोगों को नामों में दिलचस्पी नहीं है।

उन्होंने कहा कि देश के नौजवान रोजगार चाहते हैं, किसान आय की सुरक्षा चाहते हैं, माताएं और बेटियों को सुरक्षा की जरूरत है, लोग बढ़ती कीमतों और महंगाई के बोझ से दबे हुए हैं।