नई दिल्ली। केंद्र ने इस साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर राष्ट्रीय कार्यक्रम के लिए पांच शहरों को चुना है। नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल के लिए प्रधानमंत्री बनने के बाद सरकार का यह पहला विशाल सार्वजनिक आयोजन होगा। इसके लिए दिल्ली, शिमला, मैसूर, अहमदाबाद और रांची को चुना है। शहरों के नाम प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) को भेजे जा चुके हैं।

PMO, 21 जून को आयोजित होने वाले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मुख्य समारोह स्थल का चुनाव करेगा। आयुष मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, 'हमने तैयारी शुरू कर दी है और कार्यक्रम बड़े स्तर पर आयोजित किया जाएगा।' अगर राष्ट्रीय राजधानी को मुख्य स्थल चुना जाता है तो यहां दूसरी बार कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

दिल्ली में 2015 में योग दिवस पर मुख्य कार्यक्रम आयोजित किया गया था। कार्यक्रम की तैयारी के सिलसिले में दिल्ली में मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान द्वारा दो दिवसीय योग महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। यह महोत्सव शनिवार से शुरू हुआ है। इसमें योग शिक्षक, अनुभवी और अन्य सहित करीब 10,000 लोग भाग लेंगे।

अधिकारी ने कहा कि कार्यक्रम करने का लक्ष्य योग का माहौल तैयार करना है और लोगों को 21 जून के कार्यक्रम के बारे में जागरूक बनाना है। संयुक्त राष्ट्र ने 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में घोषित किया था। 2014 में प्रधानमंत्री मोदी ने इस तारीख को योग के वैश्विक आयोजन दिवस के रूप में मंजूरी देने का आह्वान किया था। भारत में 5000 साल से भी पहले योग शुरू हो चुका था।