नई दिल्ली। भारत में हजारों सालों तक राजा-महाराजाओं का शासन रहा है। आजादी के समय पूरे देश में लगभग 550 राजवाड़ों का शासन था। जो उस समय भी अपने शाही ठाठ-बाट के साथ जीवन जी रहे थे। लेकिन देशी रियासतों के एकीकरण के समय इनमें से अधिकतर राजवाड़ों का विलय भारत में करा लिया गया। इसके साथ ही हमारे देश में राजशाही का दौर भी खत्म हो गया। लेकिन आज भी कई राजघरानें ऐसे हैं जो अपने राजसी ठाटबाट के साथ रहते हैं। जानिए नाम-

सिसोदिया राजवंश, मेवाड़-

अरविंद सिंह मेवाड़ राजघराने के प्रमुख संरक्षक हैं, जो महंगी कारों के शौकीन भी हैं। इस राजघराने के द्वारा राजस्थान के कई शहरों में एचआरएच ग्रुप ऑफ होटल्स नाम का होटल बिजनेस है। मेवाड़ राजघराने के पास उदयपुर की लेक पिछोला में जाग मंदिर के नाम से एक और खूबसूरत होटल भी है।

वाडियार राजवंश-

कर्नाटक के मैसूर राजघराने ने 500 से ज्यादा वर्षों तक शासन किया है। वर्तमान में वाडियार राजवंश के मुखिया 23 साल के यदुवीर राज कृष्णदत्ता वाडियार हैं। इनके पास 10 हजार करोड़ से भी ज्यादा की संपत्ति है। इसके अलावा इस राजवंश के पास कई महंगी गाड़ियों और घड़ियों का कलेक्शन है।

रॉयल फैमिली, राजकोट -

बात अगर शाही परिवारों की तो भला उसमें राजकोट कैसे पीछे रह सकता है। राजकोट के शाही परिवार के पास अरबों की संपत्ति है और युवराज मंधातासीन जडेजा राजकोट घराने के प्रमुख हैं। मंधातासीन वर्तमान में कई फील्ड में बिजनेस करते हैं। राजकोट शाही परिवार ने हाइड्रो पावर प्लांट और बायो फ्यूल डेवलपमेंट के क्षेत्र में करीब 100 करोड़ रुपये का निवेश भी किया है।

अलसीसर राजवंश, जयपुर-

जयपुर के अलसीसर रॉयल फैमिली के मुखिया वर्तमान में अभिमन्यु सिंह हैं। इन्हें खेत्री का राजा भी कहा जाता है। अलसीसर राजवंश के पास जयपुर और रणथंभौर में कई महल हैं। जयपुर में इस राजवंश का एक हेरिटेज होटल भी है। इनके पास कई महंगी गाड़ियों का कलेक्शन भी हैं।

गायकवाड़ फैमिली, बड़ौदा -

बड़ौदा रॉयल फैमिली के वर्तमान प्रमुख समरजीत सिंह गायकवाड़ हैं जिनका रीयल स्टेट का कारोबार है। इस राजवंश के पास लक्ष्मी निवास नाम से विश्व प्रसिद्ध 600 एकड़ में फैला 187 कमरों का महल है। लक्ष्मी निवास महल को सन 1890 में महाराजा सयाजी राव तृतीय ने बनवाया था।

जोधपुर की रॉयल फैमिली-

जोधपुर का राजशाही परिवार के वर्तमान प्रमुख गजसिंह हैं। इस राजवंश के पास उम्मेद भवन के नाम से दुनिया का सबसे बड़ा निजी घर है जिसमें करीब 347 कमरे हैं। वर्तमान में उम्मेद भवन के एक हिस्से को होटल के रुप में तब्दील कर दिया गया है। इसे ताज ग्रुप ऑपरेट करती है। उम्मेद भवन के बारे में यह बात प्रसिद्ध है कि साल 1929 में जब राजस्थान में भीषण अकाल पड़ा था तब उम्मेद भवन को तोड़ दिया गया था ताकि इससे दुबारा बनवा कर लोगों को रोजगार दिया जा सके।

बीकानेर की रॉयल फैमिली-

बीकानेर की इस शाही फैमिली की एकमात्र वारिस राज्यश्री कुमारी है जो प्रोफेशनल शूटर भी हैं। राज्यश्री कुमारी को शूटिंग के क्षेत्र में अर्जुन अवार्ड भी मिला है। बीकानेर की इस शाही फैमिली के पास लालगढ़ महल नाम से हेरिटेज होटल भी है। इस होटल के अंदर कई पुराने हथियार सहेज कर रखे गए हैं। इसके अलावा इनके कई चेरिटेबल ट्रस्ट और समाजसेवी संस्थाएं भी चलती है।