जालंधर। इंटेलिजेंस, सीआइएफ स्टाफ और जम्‍मू कश्‍मीर की पुलिस ने संयुक्त छापेमारी कर जालंधर के शाहपुर में स्थित एक इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रावास से तीन छात्रों को एके 47 समेत खतरनाक हथियारों के साथ गिरफ्तार किया है। पकड़े गए युवक कश्मीर के मुस्लिम युवक बताए जा रहे हैं। ये लोग कश्‍मीरी अातंकी संगठन अंसार गजवत-उल-हिंद से जुड़े थे और दीवाली पर पंजाब में बड़ी वारदात करने की फिराक में थे।

बताया जा रहा है कि गिरफ्तार किए गए छात्र आतंकी संगठन गतिविधि से अंसार गजवत-उल-हिंद जुड़े थे। पुलिस जांच में जुट गर्इ है। इस मामले के बाद छात्रों में दहशत का माहौल है। पंजाब पुलिस में भी इस खुलासे से हड़कंप मच गया है और पूरे राज्‍य में सतर्कता बढ़ा दी गई है। गिरफ्तार किए गए तीनों छात्र मुस्लिम हैं और इनके पास से इटेलियन मेड पिस्टल, 2 मैगजीन, एक एके 47 बरामद की गई है।

बताया जाता है कि ये छात्र दीवाली के करीब पंजाब में बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे। आरोपियों को कोर्ट में पेश करने के लिए तीन थानों की पुलिस सीआइए थाने पहुंच चुकी है। पुलिस तीनों को रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी।

पंजाब के डीजीपी सुरेश अरोड़ा ने बताया कि पंजाब और जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस ने संयुक्‍त ऑपरेशन में कश्मीर आतंकी गुट से जुड़े इन छात्रों को दबोचा। प्रारंभिक जांच में खुलासा हुआ है कि ये छात्र कश्मीरी आतंकवादी संगठन अंसार गजवत-उल-हिंद (एजीएच) के जुड़े थे। छात्रों को जालंधर के बाहरी इलाके शाहपुर में स्थित सीटी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी के छात्रावास से पकड़ा गया है।

जानकारी के अनुसार, बुधवार सुबह पुलिस की संयुक्‍त टीम ने इंजीनियरिंग कॉलेज के हॉस्‍टल में छापा मारा। वहां बीटेक (सिविल इंजीनियर) के दूसरे सेमेस्टर के छात्र जाहिद गुलजार के रूम से दो एके 47 राइफल समेत कई हथियार और विस्फोटक मिले। जाहिद श्रीनगर के पास अवंतीपोरा थाना क्षेत्र के के राजपोरा का रहनेवाला है। जाहिद के साथ उसके दो साथियों मोहम्‍मद इदरीश शाह और युसूफ रफीक बट्ट को भी गिरफ्तार किया गया है। इदरीश पुलवामा और युसूफ रफीक पुलवामा के नूरपुरा का रहने वाला है।

डीजीपी ने बताया कि इन छात्रों की गिरफ्तारी जम्मू-कश्मीर और पंजाब में सक्रिय कुछ आतंकवादी संगठनों व उनसे जुड़े लोगों की गतिविधियों की निगरानी के क्रम में मिले इनपुट के आधार पर की गई। इनके आतंकी संगठन से जुड़े होने और उसके लिए काम करने की पुष्टि के बाद छापा मारा गया।

बता दें कि हाल में ही पटियाला के बनूर से एक पॉलिटेक्निक कॉलेज में पढ़ने वाले कश्‍मीरी छात्र गाजी अहमद मलिक को आंतकी संगठनों से संबंध थे। उसे पूछताछ के बाद जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस को सौंप दिया गया था। बताया जाता है कि गाजी अहमद का श्रीनगर में पीडीपी विधायक के घर से सात राइफल लेकर भागे पुलिस एसपीओ आदिल बशीर शेख से करीबी रिश्‍ते थे। शक है कि बशीर शेख हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हो गया है।