नई दिल्ली। इफ्तार की राजनीति तेज है। ऐसे में जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इफ्तार के बहाने विपक्षी एकजुटता की कवायद में जुटे थे तो केंद्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने देश के इतिहास में पहली बार विशेष तौर पर महिलाओं के लिए इफ्तार का आयोजन किया।

इसमें तीन तलाक की शिकार महिलाएं भी शामिल थीं। नकवी ने इसमें किसी राजनीति से इन्कार किया, लेकिन इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है कि तीन तलाक भाजपा के लिए बड़ा मुद्दा रहा है और पिछले चुनावों में इसका थोड़ा असर भी दिखा था।

नकवी के आवास पर आयोजित इफ्तार में तकरीबन डेढ़ दो सौ महिलाएं शामिल हुई। इसमें केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, स्मृति ईरानी, प्रकाश जावड़ेकर, जीतेंद्र सिंह समेत कई नेता मौजूद रहे। पूरे कार्यक्रम के दौरान सभी ने महिलाओं के साथ तस्वीरें खिचवाई साथ ही उनसे उनका हाल चाल जाना।

नकवी ने कहा कि उन्होंने जरूरतमंदों के लिए इस इफ्तार पार्टी का आयोजन किया है। इस इफ्तार पार्टी को लेकर वह किसी से भी मुकाबला नहीं कर रहे हैं। ध्यान रहे कि तीन तलाक को लेकर राजग सरकार ने काफी सक्रियता दिखाई थी। लोकसभा से यह पारित भी हो चुका है, लेकिन राज्यसभा में अभी लंबित है।