नई दिल्ली। देश के तीन प्रमुख संस्थानों के शोधकर्ताओं ने हिमालय के नजदीक बसे 12 प्रदेशों के मौसम परिवर्तन का तुलनात्मक मानचित्र तैयार किया है। माना जा रहा है कि इस मानचित्र से उनके लिए सुविधाओं के विकास में मदद मिलेगी। जिन राज्यों के बारे में रिपोर्ट तैयार की गई है, वे- असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, पश्चिम बंगाल, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और जम्मू-कश्मीर हैं।

यह मानचित्र आईआईटी गुवाहाटी, आईआईटी मंडी और आईआईएससी बेंगलुरु के शोधकर्ताओं ने तैयार किया है। हिमालय क्षेत्र के 12 राज्यों के लिए इस तरह का प्रयास पहली बार हुआ है। इन राज्यों का जिलावार नक्शा बनाकर वहां के मौसम के बारे में जानकारी साझा की गई है।

यह जानकारी राज्यों के विकास की योजना बनाते समय काफी उपयोगी हो सकती है। शोधकर्ता दल के अनुसार हिमालय क्षेत्र का इलाका पर्यावरण के लिहाज से बहुत संवेदनशील है। यहां जरा से मौसम परिवर्तन का असर वहां की उपज पर दिखाई देने लगता है। यहां पर हाल के दशकों में तापमान में काफी परिवर्तन और वर्षा में असमानता देखने को मिली है।

मानचित्र में कई बिंदुओं- मौसम, तापमान, वर्षा, उपज, वन और रहन-सहन के बारे में जानकारियों को फोकस किया गया है। तीनों संस्थानों की ओर से नई दिल्ली में आयोजित कार्यशाला में अध्ययन के बारे में बारे जानकारियां रखी गईं। इसमें देश-विदेश की कई संस्थाओं ने रुचि दिखाई। कार्यशाला में जिलास्तर के तथ्यों को बहु उपयोगी माना गया। इसमें राज्यों के मिल-जुलकर कार्य करने और योजनाओं बनाने की संभावनाएं भी देखी गईं।