मल्‍टीमीडिया डेस्‍क। देश के कई राज्‍यों में बारिश का दौर शुरू हो चुका है। उत्तर भारत के पर्वतीय राज्यों में पिछले 24 से 48 घंटों से बारिश का सिलसिला देखा गया है। इस दौरान कुछ स्थानों पर भारी बारिश रिकॉर्ड की गई है। आइये जानते हैं अगले 24 से 48 घंटों में कहां बारिश की कैसी स्थिति रहेगी।

यहां भारी बारिश से हो सकते हैं रास्‍ते जाम

हिमाचल प्रदेश में कई जगहों पर मूसलाधार बारिश हुई है। बीते 24 घंटों में सुंदरनगर में 61 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई है। स्काईमेट के मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, तीनों पर्वतीय राज्यों में अच्छी बारिश होने की संभावना है।

इसके चलते जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के अनेक स्थानों पर जलभराव या भूस्खलन जैसी घटनाओं की आशंका है। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग सहित कई रास्ते भी बंद हो सकते हैं। अनेक सड़कों पर आवागमन बाधित हो सकता है। यहां सार्वजनिक यातायात पर अगले 2 दिनों के दौरान मौसम की विपरीत स्थितियों का व्यापक असर होने की आशंका है।

गुजरात के इन शहरों में होगी झमाझम बारिश

पूर्वोत्तर अरब सागर के ऊपर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र देखा जा रहा है। मौसमी प्रणालियों के संयुक्त प्रभाव से दक्षिण-तटीय गुजरात के इलाके खासकर सूरत, वलसाड और भावनगर में बारिश के दौर बढ़ने के आसार हैं। इसके अलावा गांधीनगर, बड़ौदा, अहमदाबाद, राजकोट और मेहसाणा में हल्‍की बारिश की संभावना है। राज्य के उत्तरी जिलों में भी एक-दो स्थानों पर बारिश की उम्मीद है।

पर्यटकों को रखना होगा ध्‍यान

इस समय छुट्टियों और भ्रमण का मौसम चल रहा है। देश के विभिन्न भागों से पर्यटक पर्वतीय राज्यों में पर्यटन का आनंद लेने पहुंचे हैं। पर्यटकों के अलावा स्थानीय लोगों को भी अगले 24 से 48 घंटों के दौरान मौसम की बिगड़ी चाल के कारण बेहद सतर्कता बरतने की जरूरत है। पर्वतीय राज्यों में बारिश की गतिविधियां एक सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के कारण हो रही हैं। यह सिस्टम काफी प्रभावी है और कश्मीर के पास से पूर्व दिशा में आगे बढ़ रहा है।


पहाड़ी राज्‍यों में होगी मध्‍यम बारिश

पहाड़ों पर 26 जून से बारिश में कमी आ सकती है, लेकिन इन राज्यों में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश जारी रहेगी। 27 जून से हिमालयी राज्यों में बारिश संभवत: कम हो जाएगी और केवल एक-दो स्थानों पर ही वर्षा देखने को मिलेगी। बारिश में कमी से पर्यटकों को निकलने में आसानी होगी।

आगे का यह है अनुमान

अनुमान है कि जून के आखिरी दिनों में भी पर आंशिक बादल बने रहेंगे और ठंडी हवाएं चलती रहेंगी। मौसम सुहाना होगा और बारिश भी कम से कम होगी। संभावना है कि यह समय पर्यटकों के लिए बेहतरीन होगा। इस बीच दक्षिण-पश्चिम मॉनसून 2019 भी उत्तराखंड के कुछ भागों में 24 जून को पहुँच गया। इसके कारण उत्तराखंड और आसपास के भागों में बारिश की गतिविधियां बढ़ गई हैं।

साभार : स्‍कायमेट