नई दिल्ली। वायु प्रदूषण का हमारी जिंदगी पर बहुत बुरा असर हो रहा है। ताजा खुलासा तो और भी चौंकाने वाला है कि इससे हमारी जिंदगी के कुछ साल भी कम हो रहे हैं।

पुणे स्थित इंडियन इंस्टि ट्यूट ऑफ ट्रॉपिकल मीटिअरॉलजी (IITM) की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रदूषण से एक आम भारतीय की जिंदगी के औसत 3.4 साल कम हो रहे हैं।

वहीं देश के सबसे प्रदूषित शहरों में शूमार दिल्ली के बाशिंदों को इसकी कहीं ज्यादा बड़ी कीमत चुकानी पड़ती है और उनकी जिंदगी के औसतन 6.3 साल घट जाते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, जिस तरह से हवा जहरीली होती जा रही है, आने वाला वक्त और भी चिंताजनक होगा।

एक थाना ऐसा, जहां 23 साल से नहीं आया रेप का एक भी केस

दिल्ली के अलावा इन प्रदेशों में भी स्थिति खतरनाक

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट में दुनिया के सबसे प्रदूशित शहरों में दिल्ली का स्थान 11वां है। वहीं पश्चिम बंगाल और बिहार में भी खतरा कम नहीं है।
  • पश्चिम बंगाल में प्रदूषित हवा से आम इनसान की जिंदगी करीब 6.1 साल कम हो रही है, वहीं बिहार के लिए यह आंकड़ा 5.7 साल है।
  • 2011 की जनगणना के अनुसार, जहरीले कणों वाली हवा के सेवन से देश में हर साल 5.7 लाख लोगों की मौत हो रही है। वहीं 31,000 लोगों की मौत ग्राउंड लेवर ओजोन (O3) के सेवन से हुई है।
  • IITM के मुख्य अनुसंधानकर्ता सचिन घुडे के मुताबिक, बीते दो दशक में देश में औद्योगिकीकरण और ट्रैफिक बहुत बढ़ा है। इसका साफ असर लोगों की जिंदगी पर नजर आ रहा है।