नई दिल्ली। योग शिविर के आयोजन को लेकर काठमांडू में मौजूद बाबा रामदेव यहां भूकंप से हुई तबाही में बाल-बाल बचे हैं। भूकंप के वक्त रामदेव शिविर के जिस पंडाल में मौजूद थे, वह उनके निकलते ही भरभराकर गिर गया। इसके बाद जैसे ही वे आगे बढ़े उनके सामने दो बहुमंजिला इमारतें जमींदोज हो गईं।

बाबा रामदेव पतंजलि पीठ की नेपाल शाखा के पांच दिवसीय योग शिविर के आयोजन के तहत काठमांडू प्रवास पर हैं। रामदेव ने एक टीवी चैनल को बताया कि सुबह पांच बजे से साढ़े सात बजे का योग सत्र समाप्त करने के बाद वह एक अन्य सत्र आयोजित कर रहे थे। सत्र पूरा करने के बाद जैसे ही वह पंडाल से बाहर निकले भूकंप से धरती कांपने लगी और पूरा पंडाल भरभराकर गिर गया।

इसके बाद उनके सामने मौजूद दो विशाल बहुमंजिला इमारतें एक झटके में जमींदोज हो गईं। रामदेव ने बताया, 'मैंने जिंदगी में पहली बार इस तरह की तबाही का मंजर देखा। मेरे सामने दो बिल्डिंग गिरीं। चारों ओर से जोर-जोर से आवाजें आने लगीं।' रामदेव ने काठमांडू में हुई इस भीषण तबाही पर गहरी वेदना प्रकट की।