पटना। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गुरुवार को बिहार की धरती पर कदम रखेंगे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आमंत्रण पर वह बिहार के महत्वाकांक्षी तीसरे कृषि रोडमैप को किसानों को समर्पित करने के लिए पटना आ रहे हैं।

राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार बिहार आ रहे कोविंद पटना में करीब पांच घंटे रहेंगे। इस दौरान वह रोडमैप से संबंधित नौ विभिन्न योजनाओं की बुनियाद भी रखेंगे। बिहार के राजभवन से ही कोविंद ने रायसीना हिल की दूरी तय की है।

इसी वर्ष 25 जुलाई को उन्होंने राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी। इसके पहले वह बिहार के राज्यपाल रहे। कोविंद जिस दौरान प्रदेश में राज्यपाल थे, उस समय यहां महागठबंधन की सरकार थी। इसके बावजूद उन्होंने हर राजनीतिक विवाद से बचते हुए राज्यपाल की हैसियत से लोकप्रियता हासिल की।

राजग की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में जब उनके नाम की घोषणा की गई, तब महागठबंधन में रहते हुए भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उन्हें समर्थन दिया। नीतीश की पार्टी जदयू ने संप्रग की उम्मीदवार मीरा कुमार की बजाय कोविंद के पक्ष में मतदान किया था।