नई दिल्ली। जम्मू के कठुआ में नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म और फिर उसकी हत्या की घटना ने देश को झकझोंर कर रख दिया है। घटना की पूरी देश में निंदा हो रही है और अब इस मामले में सियासी बयान भी आने शुरू हो घए हैं।

इस घटना को लेकर केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने एक वीडियो के माध्यम से बयान जारी कर आरोपी के लिए मौत की सजा की मांग की है। मेनका गांधी ने एक वीडियो संदेश जारी कर बाल यौन अपराध के मामलों में कानून में बदलाव लाते हुए आरोपियों के खिलाफ मृत्युदंड की मांग की है। वीडियो संदेश में मेनका ने कहा कि कठुआ घटना से मुझे गहरा बहुत गहरा दुख पहुंचा है।

मेनका गांधी ने कहा कि हमारी महिला एवं बाल विकास मंत्रालय सोमवार को कैबिनेट में इस बात इस बात पर जोर देगी जिसमें पीओसीएसओ (पॉस्को), यौन उत्पीड़न कानून के खिलाफ बच्चों की सुरक्षा में संशोधन करने पर प्रस्ताव रखा जाएगा।

मेनका गांधी ने यूट्यूब पर एक वीडियो पोस्ट करते हुए कहा है कि, कठुआ दुष्कर्म मामले और अन्य बच्चों पर हुए हालिया दुष्कर्म के सभी मामलों ने मुझे अंदर तक परेशान कर दिया है। मैं और मेरे मंत्रालय का पीओसीएसओ(पॉस्को) अधिनियम में संशोधन लाने का इरादा है, इसके तहत जो 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के साथ दुष्कर्म मामले के आरोप के लिए मौत की सजा की मांग की जाएगी।

आपको बता दें कि 10 जनवरी को कठुआ की नाबालिग का अपहरण कर लिया गया था, जिसके बाद अपहरणकर्ताओं ने बार-बार उसके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। इस घृणित अपराध के पीछे उनका मकसद था कठुआ के रसाना इलाके से उसके बकरवाल समुदाय को बाहर निकालना।

पुलिस का कहना है कि नाबालिग बच्ची को कई दिनों तक बिना भोजन के बेहोश रखा गया था। पुलिस के मुताबिक उसकी हत्या से पहले एक पुलिस अधिकारी ने नाबालिग के साथ एक और बार दुष्कर्म करने की इच्छा जताई थी। मामले में अब तक आठ लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। लेकिन हिंदू समूह उनके बचाव में आगे आ रहे हैं।

कल, केंद्रीय सत्ता से मंत्री वीके सिंह ने पहली बार नाबालिग के लिए न्याय के लिए आवाज उठाई। बाद में, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ट्वीट किया और आधी रात के कांग्रेस के अन्य कार्यकर्ताओं के साथ विरोध मार्च का निकाला। इनके अलावा कई बड़ी हस्तियां, खिलाड़ी और हजारों अन्य लोगों ने इस तरह के घृणित अपराध पर अपना विरोध दर्ज कराया है और मामले पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है।