नई दिल्ली। आईआईटी के साझा प्रवेश बोर्ड (जेएबी/ जेब) ने जेईई एडवांस्ड परीक्षा की नई विस्तारित मेरिट लिस्ट जारी की है। इसमें 31,980 विद्यार्थियों का चयन किया गया है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय के निर्देश पर आईआईटी ने पहली बार यह कदम उठाया है। पहली मेरिट सूची में 18,138 को ही पात्र माना गया था। यह संख्या 2012 के बाद सबसे कम थी।

जारी किए गए बयान में रिवाइज्ड कटऑफ, मिनिमम क्वालिफाइंग मार्क्स और अलग-अलग रैंक के क्वालीफाई करने वाले कैंडिडेट्स के बारे में जानकारी दी है। इसके अनुसार कॉमन रैंक लिस्ट में मिनिमम एग्रीगेट 126 (35%) से 90(25%) पर आ गए हैं।

गुरुवार को "जैब" की बैठक के बाद विस्तारित मेरिट लिस्ट जारी की गई। एक सरकारी बयान में कहा गया है कि "साझा सीट आवंटन अथॉरिटी (जोसा) की च्वाइस फिलिंग पूर्व में तय कार्यक्रम के अनुसार 15 जून से ही शुरू होगी। विस्तारित मेरिट लिस्ट में चुने गए परीक्षार्थी भी अन्य छात्रों के समान अपने विकल्पों पर च्वाइस फिलिंग कर सकेंगे।

इससे पहले गुरुवार दिन में एचआरडी मंत्रालय ने इस साल जेईई एडवांस्ड परीक्षा लेने वाले आईआईटी कानपुर को पूरक मेरिट सूची जारी करने का निर्देश दिया। मंत्रालय ने कहा था कि सामान्य व आरक्षित श्रेणी के प्रत्येक वर्ग में उपलब्ध सीटों से दोगुने प्रत्याशियों की मेरिट लिस्ट जारी की जाए। विस्तारित सूची आईआईटी व एनआईटी की सीट आवंटन के लिए शुक्रवार से शुरू होने वाली च्वाइस फिलिंग से पहले जारी करने के निर्देश दिए गए थे, इसलिए ताबड़तोड़ गुरुवार को ही विस्तारित सूची जारी कर दी गई।

छात्रों व आईआईटी ने किया था आग्रह : जावडेकर

मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर ने ट्वीट कर कहा "विद्यार्थियों व आईआईटी समुदाय के आग्रह पर यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि सारी आरक्षित सीटों पर अतिसक्रियता के साथ प्रवेश सुनिश्चित किया जाए। आईआईटी कानपुर को प्रत्येक श्रेणी में उपलब्ध सीटों से दोगुने प्रत्याशियों को सिर्फ मेरिट के अनुसार चुना जाए।"

हमेशा दोगुने होते थे पात्र इस बार 1.6 गुना ही थे

-हमेशा आईआईटी की उपलब्ध सीटों से दोगुने छात्रों को क्वालिफाई (पात्र) घोषित किया जाता था।

-इस साल 18,138 विद्यार्थियों को ही पात्र माना गया था।

-यह संख्या कुल सीटों की मात्र 1.6 गुना ही थी। जो कि 2012 के बाद की सबसे कम थी।

-इसीलिए विस्तारित सूची जारी कर 31,980 को पात्र घोषित किया गया है।