नई दिल्ली। पटना से ताल्लुक रखने वाले अभय कुमार सिंह रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की पार्टी में तेजी से उभर रहे हैं। वह रूस के प्राचीन शहर कुर्स्क की विधानसभा के डेप्युटेट (विधायक) हैं। यह वही शहर है जहां 1943 में एडोल्फ हिटलर की सेना को हार का सामना करना पड़ा था।

रूसी मीडिया के अनुसार, सिंह पुतिन की पार्टी यूनाईटेड रूस के टिकट पर पिछले साल अक्टूबर में प्रांतीय चुनाव में डेप्युटेट चुने गए। पुतिन की पार्टी पिछले 18 साल से सत्ता में है। इस साल मार्च में हुए संसदीय चुनाव में यूनाईटेड रूस ने तीन चौथाई सीटों पर जीत दर्ज की थी।

सिंह के फेसबुक अपडेट से पता चला कि उनका साल 2015 से राजनीति की ओर झुकाव बढ़ता गया। वह पिछले साल अप्रैल में यूनाईटेड रूस के सदस्य बने और कम समय में डेप्युटेट चुन लिए गए। सिंह ने स्कूली पढ़ाई पटना के लोयोला हाई स्कूल से की है। इसके बाद वह मेडिकल की पढ़ाई के लिए 1991 में कुर्स्क आ गए।

उन्होंने कुर्स्क स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी से स्नातक की डिग्री ली और फिर बतौर डॉक्टर प्रैक्टिस करने पटना लौट गए लेकिन अपेक्षित सफलता नहीं मिलने पर उन्होंने फिर कुर्स्क का रुख किया और दवा कारोबार शुरू किया। वह जल्द ही कुर्स्क के जानेमाने कारोबारी बन गए।

हालांकि इस दौरान उन्हें अश्वेत विदेशी होने की वजह से दिक्कतों का सामना भी करना पड़ा। उन्होंने बाद में रियल एस्टेट कारोबार भी शुरूकिया। उनके कई शॉपिंग मॉल हैं। सिंह ने साल 2015 में कुर्स्क में पहले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन किया था।