रमाशरण अवस्थी, अयोध्या। चुनाव प्रचार की पाबंदी के बीच सीएम योगी ने अपने फुर्सत के क्षणों के रामनगरी में बिताया। इस दौरान उन्होंने अनुसूचित जाति के महावीर के घर भोजन किया और अपने प्रवास का ज्यादातर समय मंदिरों की चौखट पर शीश नवाने और संतों की संगति में बिताया और अयोध्यावासियों से मुलाकात की।

महावीर के घर पर उनकी अगवानी के लिए अशर्फीभवन पीठाधीश्वर जगद्गुरु श्रीधराचार्य पहुंचे। यहां से मुख्यमंत्री स्वामी श्रीधराचार्य की पीठ अशर्फीभवन गए। उसके बाद मणिरामदासजी की छावनी में भी वे महंत नृत्यगोपालदास के प्रति आदर व्यक्त करने के साथ अन्य संतों के साथ घुलना-मिलना नहीं भूले। साधु समाज के कई साथियों के साथ मुख्यमंत्री ने सेल्फी भी ली। सेल्फी का दौर दिगंबर अखाड़ा में भी चलता रहा।

आचार्य पीठ दशरथमहल बड़ास्थान के महंत बिदुगाद्याचार्य देवेंद्रप्रसादाचार्य से सीएम योगी ने मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने दिगंबर अखाड़ा में ही प्रवास के दौरान पूर्व सांसद डॉ. रामविलासदास वेदांती एवं जगद्गुरु स्वामी रामदिनेशाचार्य को याद किया और उनको दिगंबर अखाड़ा बुलाया। इस दौरान उदासीन संप्रदाय की शीर्ष पीठ उदासीन ऋषि आश्रम के महंत डॉ. भरतदास एवं बिदुगाद्याचार्य के कृपापात्र संत रामभूषणदास कृपालु, डॉ. वेदांती के उत्तराधिकारी डॉ. राघवेशदास, समाजसेवी कौस्तुभ आचारी, विकास श्रीवास्तव बाबा आदि ने भी मुख्यमंत्री से मुलाकात की।

करीब डेढ़ घंटे तक संगी-साथी संतों से अनौपचारिक बातचीत के बाद वह सुग्रीवकिला की ओर रवाना हुए और प्रत्येक अयोध्या प्रवास में साथ रहने वाले डॉ. वेदांती सहित निर्वाणी अनी अखाड़ा के श्रीमहंत धर्मदास एवं सुरेशदास को गाड़ी में अपने साथ लेकर गए। गत माह ही दिवंगत हुए हुए सुग्रीवकिला पीठाधीश्वर जगद्गुरु पुरुषोत्तमाचार्य को उन्होंने याद किया और पुरुषोत्तमाचार्य के उत्तराधिकारी विश्वेशप्रपन्नाचार्य को सांत्वना दी।

हनुमानगढ़ी में मुख्यमंत्री ने निर्वाणी अनी अखाड़ा के महासचिव महंत गौरीशंकरदास एवं क्षेत्रीय पार्षद तथा हनुमानगढ़ी के पुजारी रमेशदास से पुरानी जान-पहचान का इजहार किया। अनेक संतों एवं बब्लू खान सहित कुछ मुस्लिमों के साथ उन्होनें हनुमान चालीसा का पाठ किया। प्रत्येक अयोध्या यात्रा की तरह बुधवार को सरयू आरती करने पहुंचे मुख्यमंत्री सामने पुण्यसलिला की नित्य आरती करने वाली संस्था के अध्यक्ष महंत शशिकांतदास से मुलाकात की।

प्रतिबंध के अंतिम दिन बाबा विश्वनाथ के दर्शन करेंगे

प्रतिबंध के तीसरे और अंतिम दिन गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी में बाबा विश्वनाथ के दरबार में हाजिरी लगाएंगे। संकट मोचन मंदिर में बजरंगबली की पूजा करने के साथ ही योगी गढ़वा घाट आश्रम और रामकृष्ण मठ भी जाएंगे। मुख्यमंत्री का डोमराजा के घर जाने का भी कार्यक्रम है जहां वह सहभोज में भी शामिल हो सकते हैं। उल्लेखनीय है कि दक्षिण भारत के मीनाक्षीपुरम में हुई धर्मांतरण की घटना के बाद सामाजिक समरसता के लिए योगी के गुरु ब्रह्मालीन महंत अवेद्यनाथ ने भी डोमराज के यहां भोजन किया था। उस समय यह घटना पूरे देश में काफी चर्चित हुई थी।