नई दिल्ली। पीएनबी बैंकिंग घोटाले का ठीकरा केंद्र सरकार पर फोड़ने की कोशिश कर रही कांग्रेस पर तीखा हमला करते हुए भाजपा ने याद दिलाया है कि हर घोटाले की तरह यह भी कांग्रेस काल का ही पाप है। हर मामले की तरह इस मामले में भी मोदी सरकार ही कार्रवाई कर रही है।

कांग्रेस को जवाब देने आए केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने चेतावनी के अंदाज में कहा कि पद और कद चाहे जितना भी बड़ा हो, इस घोटाले में जो भी शामिल होगा उसे बख्शा नहीं जाएगा। इसी दृढ़संकल्प का नतीजा है कि कम समय में ही आरोपी नीरव मोदी और उनके साथियों के ठिकानों पर छापे डाले गए और लगभग 1300 करोड़ की संपत्ति सील कर दी गई।

बैंकिंग घोटाले के नीरव मोदी से तार जुड़ने की खबर को कांग्रेस ने राजनीतिक रंग दे दिया है। चुनावी माहौल में कांग्रेस इसे एक मौके के रूप में देख रही है। यही कारण है कि कांग्रेस की ओर से नीरव मोदी को "छोटा मोदी" का संबोधन भी दिया गया। भाजपा ने तत्काल पलटवार किया।

रविशंकर ने छोटा मोदी संबोधन पर आपत्ति जताते हुए कहा कि देश में करोड़ों ऐसे लोग हैं जिनका टाइटल मोदी है। जो फोटो दिखाया जा रहा है वह प्रधानमंत्री का भारतीय उद्योगपतियों के साथ है। नीरव उनमें से एक हैं। नीरव से प्रधानमंत्री की अलग से कोई मुलाकात नहीं हुई थी।


राहुल के साथ भी नीरव का फोटो-

रविशंकर ने आगाह किया कि फोटो की राजनीति बंद करें वरना भाजपा के पास भी नीरव के मामा मेहुल चोकसी के साथ कांग्रेस नेताओं के कई फोटो हैं। बल्कि खुद कांग्रेस के ही नेता सहजाद पूनावाला ने ट्वीट कर बताया है कि 2013 में राहुल गांधी नीरव मोदी की एक प्रदर्शनी में गए थे। कांग्रेस इसका जवाब दे और बताए कि 2012-13 के बीच चोकसी की गीतांजलि ज्वैल्स की आमदनी दोगुनी कैसे हो गई थी?

सख्त लहजे में रविशंकर ने विजय माल्या को लेकर भी कांग्रेस को कठघरे में खड़ा किया और याद दिलाया कि खुद माल्या ने मेल भेजकर मदद के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का धन्यवाद किया था।


मोदी सरकार में एक भी लोन एनपीए नहीं-

रविशंकर ने कहा कि कुछ दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में कहा है कि उनकी सरकार में एक भी ऐसा लोन नहीं दिया गया है जो एनपीए हो और यही सच्चाई है। कांग्रेस हताशा में बेबुनियाद आरोप लगा रही है, लेकिन वह यह भूल रही है कि वह खुद ऐसे शीशे के घर में रहती है जिसके टुकड़े-टुकड़े हो चुके हैं।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि नीरव और अन्य आरोपी भले ही विदेश भाग चुके हों, लेकिन यह नहीं भूलना चाहिए कि पिछले वर्षों में विदेशों में भी भारत की साख कितनी मजबूत हुई है। कार्रवाई होगी और कोई भी दोषी बख्शा नहीं जाएगा।