ठाकुर रणधीर बिट्टा, माधोपुर। एक पूर्व सैनिक की बुधवार को कुछ अज्ञात लोगों ने गला घोंटकर हत्या कर दी और शव को रेलवे की पटरी के समीप झाड़ियों में फेंककर पत्तों से ढक दिया। जिस इलाके में यह घटना हुई है, वह जम्मू-कश्मीर की सीमा पर स्थित है। मृतक पूर्व लांस नायक बली राम के बेटे धरमिंद्र ने बताया कि उनके पिता बुधवार को नहर के किनारे बकरियां चराने गए थे, लेकिन शाम को घर नहीं लौटे।

पुलिस को सूचित करने पर जब पिता को ढूंढने निकले तो रेलवे पटरी के समीप उन्हें पिता की चप्पल और दातर मिली। साथ ही किसी को घसीटने के निशान पड़े हुए मिले। इन्हीं निशानों की सेंध पर जाते-जाते जब वह झाड़ियों तक पहुंचे तो उनके पिता का शव मिला। पुलिस व सेना इस हत्या को आतंकी गतिविधि से जोड़कर देख रही है।

पूर्व सैनिक मृतक राम बली अक्सर नहर की पहाड़ी पर अपनी बकरियां चराने जाते थे। तीन दिन पहले उन्होंने पहाड़ी पर दो अज्ञात लोगों को देखा और राम बली ने उनसे पूछताछ भी की। इस पर उक्त लोगों ने उसे कहा कि वह जम्मू-कश्मीर के रहने वाले हैं। वह पहाड़ी पर रहने वाले गद्दियों को मिलने आए हैं।

जब अगले दिन राम बली ने गद्दियों से पूछा तो उन्होंने ऐसे लोगों से मिलने की बात नकारी। इस बात को राम बली ने परिजनों को भी बताया था। मृतक के गले में कपड़ा डालकर उसे दबाया गया और बाद में तेजधार हथियार से काटा गया है।

मंगलवार रात को देखे गए थे चार संदिग्ध-

बता दें कि पठानकोट-डल्हौजी स्टेट हाइवे पर सुकरेत तालाब के बाहर मंगलवार रात को एक परिवार की ओर से चार संदिग्ध व्यक्ति देखे गए थे। इसकी सूचना के बाद पुलिस व सेना के जवानों ने बुधवार को जिले में 10 घंटे तक सर्च ऑपरेशन चलाया था। हालांकि इस दौरान पुलिस को कोई सफलता नहीं मिली थी। पुलिस व सेना के जवान किसी भी तरह की गतिविधि को लेकर पूरी तरह चौकस हैं।