लखनऊ। उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा का गठबंधन होने से लालू यादव की पार्टी भी खुश है। इसी सिलसिले में बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल नेता तेजस्वी यादव ने रविवार देर रात बसपा प्रमुख मायावती के आवास पर मुलाकात की थी। दो घंटे की मुलाकात के बाद मीडिया से रूबरू होते हुए दोनों नेताओं ने एक दूसरे को सराहा था। सोमवार को तेजस्वी, अखिलेश यादव से मिले।

इस मुलाकात के बाद तेजस्वी ने कहा, मैं इस गठबंधन के लिए अखिलेशजी और मायावतीजी की बधाई देता हूं। भाजपा को हराने के लिए यह जरूरी था। उन्होंने केंद्र सरकार की नीतियों पर निशाना साधते हुए कहा, देश में अघोषित इमरजेंसी लगी है। बिहार में जनादेश का अपमान किया गया है। बिहार के सम्मान की बोली लगाई गई है।

उन्होंने कहा कि भाजपा के खिलाफ यह गठबंधन देश की राजनीति की दिशा व दशा तय करेगा। तेजस्वी ने कहा कि भाजपा तो संविधान की हत्या करने वाली पार्टी है। संविधान विरोधी पार्टी का लोकसभा चुनाव में अब तो उत्तर प्रदेश के साथ ही बिहार से भी सफाया हो जाएगा। उन्होंने कहा कि इस संविधान विरोधी पार्टी की उलटी गिनती शुरू हो गई है। नागपुरिया कानून से देश चलाया जा रहा है। बंच ऑफ थॉट्स किताब को संविधान की जगह रखना चाहते हैं।

तेजस्वी ने कहा कि इस पार्टी ने देश के लोगों को धर्म व जाति के नाम पर लड़ाकर अपना उल्लू सीधा किया है। अब लोगों को इनकी सारी साजिश का पता चल गया है। भाजपा की सरकार में मॉब लिंचिंग बढ़ी है। समाज में जहर फैलाया जा रहा है। देश में हर तरफ अघोषित इमरजेंसी का माहौल है। इनके राज में तो हर संवैधानिक संस्थाओं को तानाशाही करके अपने फायदे के लिए चलाया जा रहा है। देश में बेरोजगारी बढ़ी है। किसान भी मर रहा है।

उन्होंने कहा कि हम उत्तर प्रदेश में गठबंधन को समर्थन देंगे। तेजस्वी ने कहा कि केंद्र सरकार का मुख्य रास्ता यूपी व बिहार से ही जाता है। इस बार तो उत्तर प्रदेश व बिहार के साथ ही झारखंड में भाजपा को बहुत नुकसान होने जा रहा है। भाजपा ने बिहार में लोगों को ठगा है। पीएम मोदी ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नही दिया। विशेष पैकेज से एक भी पैसा अभी तक नही दिया।

वहीं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि हर वर्ग भाजपा को हटाना चाहता है। हम तो अपने गठबंधन को और मजबूत करेंगे। सपा-बसपा गठबंधन की खुशी पूरे देश में है। दिल्ली से कलकत्ता तक के लोग हमारे फैसले से खुश हैं। आने वाले चुनाव में गठबंधन को समर्थन मिलेगा। देश में यूपी के गठबंधन का एक बड़ा संदेश गया है।

इससे पहले मायावती ने लालू यादव के खिलाफ द्वेष भावना से कार्रवाई करने का आरोप लगाते हुए कहा कि देश से सांप्रदायिक ताकतों को खत्म करने के लिए धर्मनिरपेक्ष दलों को एक होना होगा।

मायावती ने कहा कि लालू यादव के परिवार का मनोबल बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने बिहार में गठबंधन के सवाल पर कहा कि इसके बारे में आगे सोचा जाएगा। वहीं, राजद नेता तेजस्वी ने बसपा प्रमुख को आदर्श बताते हुए कहा कि सपा बसपा के गठबंधन से देश को नई राह मिलेगी।

उनका कहना था कि वह मायावती के बयानों व कृतित्व से बहुत कुछ सीख रहे हैं। भाजपा पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार देश को बाबा साहब के संविधान के बजाए नागपुरिया संविधान से चलाना चाहती है।

गठबंधन पर खुशी जताते हुए तेजस्वी ने कहा कि उनके पिता लालू प्रसाद यादव ने जिस महागठबंधन की कल्पना की थी, वह उप्र में अब साकार हो गया है। गठबंधन के जरिये भाजपा के सफाये की नींव रखी जा चुकी है। बिहार और उप्र में एक भी सीट भाजपा नहीं जीत सकेगी। यूपी बिहार के बिना दिल्ली में भाजपा को सरकार बनाना संभव नहीं होगा।