Menu

PHOTOS : भारत बंद के दौरान MP में हुआ उपद्रव

   |  Mon, 02 Apr 2018 05:57 PM (IST)

दलित समाज द्वारा बुलाए गए भारत बंद ने हिंसक रूप लिया। हिंसा इस बड़े पैमाने पर हुई कि पूरे मध्यप्रदेश में तनाव के हालात बन गए। ग्वालियर-चंबल क्षेत्र सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ। बेकाबू हालात को काबू करने के लिए कई स्थानों पर कर्फ्यू लगाना पड़ा।

विरोध प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शनकारियों ने कई स्थानों पर ट्रेनें भी रोकी।

सैकड़ों की संंख्या में प्रदर्शकारी रेलवे की पटरी पर जमा हो गए जिससे रेल यातायात बाधित हुआ।

भारत बंद के दौरान हुई हिंसा में कुछ लोगों की जानें गई वहीं कई निर्दोष घायल हुए। ग्वालियर में बच्चे और पुलिसकर्मी भी गंभीर रूप से घायल हुए।

असामाजिक तत्वों ने प्रदर्शन की आड़ में नेताओं और अधिकारियों की गाड़ियों को निशाना बनाया।

विरोध प्रदर्शन में बड़ी संख्या में दलित समाज की महिलाएं भी शामिल हुईं। विरोध को हिंसक रूप लेने में ज्यादा देर नहीं लगी।

उपद्रवियों को रोकने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी छोड़े, लेकिन ये इंतजाम नाकाफी साबित हुए।

कई स्थानों पर प्रदर्शनकारियों और पुलिस में झड़प देखने को मिलीं।

छोटे शहरोंं में भी दलित समाज के लोग बड़ी संख्या में सड़कों पर उतरे और उन्होंने दुकानें, प्रतिष्ठान बंद कराए।

दलित समाज के हजारों लोग सड़कों पर उतरे और लगभग हर स्थान पर लोगों का ऐसा ही हुजूम दिखाई दिया।

उपद्रव इस बड़े पैमाने पर हुआ कि सुरक्षा के सारे इंतजाम धरे के धरे रह गए। पुलिस को इतनी हिंसा का जरा भी अंदेशा नहीं था।

कई स्थानों पर गाड़ियों में तोड़फोड़, पथराव और आगजनी हुई।

SC/ST एक्ट में परिवर्तन के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में दलित समाज पूरे देश में सड़कों पर उतरा था।

जो दुकानें खुलीं थी उन्हें दबाव बनाकर बंद कराया गया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK