photo-gallery/national-think-about-100-times-before-you-go-to-these-beautiful-tourist-destinations-in-india-1507569"/>
Menu

भारत के इन खूबसूरत पर्यटन स्थलों पर जाने के पहले 100 बार सोचेंगे आप

   |  Mon, 15 Jan 2018 05:42 PM (IST)

पर्यटन के दृष्टिकोण संपन्न भारत दुनिया भर के लोगों को आकर्षित करता है। लेकिन यहां कई ऐसे स्थान हैं जो आपके लिए खतरनाक भी साबित हो सकते हैं। अत इन स्थानों पर जाने के पहले विचार जरूर करें।

बस्तर- प्राकृतिक हरियाली से समृद्ध बस्तर जिला छत्तीसगढ़ में स्थित है। पर्यटन की अपार संभावनाऐं समेटे बस्तर माओवादियों का गढ़ है। सुरक्षाबलों और माओवादियों के बीच लगातार चलते अघोषित युद्ध के कारण यह पूरा इलाका अशांत रहता है। यहां के प्राकृतिक झरने और जंगल लोगों का मन मोह लेते हैं।

द्रास- जम्मू कश्मीक का द्रास सेक्टर कुदरत के मनोहारी दृश्यों से भरपूर है। आतंकवाद से प्रभावित यह जगह अक्सर मुठभेड़ और सीज फायर वायलेशन के चलते खतरनाक बना रहते हैं। इसलिए यहां घूमना खतरे से खाली नहीं है।

डुमास तट- गुजरात में अरब सागर के किनारे स्थित यह स्थान अपने आप में कई तरह के रहस्यों से भरा पड़ा है। ऐसा कहा जाता है कि यहां कई रहस्यमयी गतिविधियां होती है जिससे कई लोग गायब भी हो चुके हैं। हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है।

खरदुंग ला पास- दुनिया की सबसे उंची सड़क में से एक खरदूंग ला जम्मू कश्मीर के लेह में स्थित है। पूरी तरह से बर्फ से ढके इस जगह पर आक्सीजन की कमी, सांस फूलना, चक्कर आना आम बात है। यह जगह जितनी खूबसूरत है उतनी खतरनाक भी है।

फुगताल मोनेस्ट्री- जम्मू कश्मीर के लद्दाख में स्थित यह मोनेस्ट्री बेहद तीखी ढलाई पर स्थित हैं जहां तक जाना मौत को दावत देना ही है। बहुत से पर्यटक इस कोशिश में अपनी जान तक गंवा चुके हैं।

थार रेगिस्तान- भारत के राजस्थान से लेकर पाक तक फैला थार रेगिस्तान जितना खूबसूरत है उतना ही डरावना भी है। यहां लोग अक्सर भटक कर पानी और खाने की तलाश में मारे जाते हैं। इस गर्म और निर्जन इलाके में कई प्रकार के जहरीले जीव-जंतु भी पाए जाते हैं जो पलक झपकते किसी की जान भी ले सकते हैं।

स्तोक कांगड़ी मार्ग- जम्मू कश्मीर के लद्दाख में स्थित स्तोक कांगड़ी मार्ग 6100 मीटर की उंचाई पर स्थित है। इस उंचाई में सफर करना यात्रियों के लिए बहुत मुश्किल होता है। अपने चारों तरफ शानदार प्राकृतिक दृश्यों को समेटे यह स्थान खतरनाक भी है।

DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK