जयपुर। प्रेम की बात आती है तो राजस्थान के धौलपुर और भरतपुर में सचिन और अनु की प्रेम कहानी हमेशा याद की जाती है। सात साल पहले राजस्थान के भरतपुर जिले के घाटौली गांव का रहने वाले सचिन जाटव की मुलाकात धौलपुर के कालोरी गांव की लड़की अनु से हुई। तब अनु 15 साल की थी और सचिन 18 साल का था।

दोनों को एक-दूसरे से प्यार हुआ और नाबालिग होने के बावजूद शादी का मन बना लिया। जब अनु ने सचिन से शादी की बात पेरेंट्स को बताई तो परिवारवालों का गुस्सा आया और उन्होंने अनु को घर में ही कैद कर दिया।

परिवारवालों की इस कैद से एक दिन मौका पाकर अनु भाग गई और सचिन के साथ लगभग छह महीने तक फरार रही। अनु के पिता ने सचिन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। सचिन-अनु को उसके बाद उत्तरप्रदेश के इटावा से पकड़ा गया। उसके बाद सचिन को जेल भेजा और अनु को बालिका सुधार गृह। जब अनु को पकड़ा गया तब उसे 7 महीना का गर्भ था। दो महीने बाद अनु ने सुधारगृह में बेटी को जन्म दिया।

उसके पेरेंट्स से अपनाने को तैयार नहीं थे। साल 2017 में 16 अक्टूबर की तारीख को वह बालिग हो गई। इतने समय तक सचिन भी जमानत पर बाहर आया। इतनी दूरियों के बाद भी दोनों का प्यार कम नहीं हुआ। एक बच्ची की मां बनी इस नाबालिग लड़की ने बालिग होने के बाद उसी लड़के से विवाह कर लिया जो उसके बच्चे का पिता था।