सूरत। भगवान गणेश का त्यौहार "गणेश उत्सव" शुरू होने में बस कुछ ही दिन बचे हैं ऐसे में गणेश भक्त उत्सव की तैयारियों को आखिरी रूप देने में जुटे हैं। लेकिन इस बार गणेश उत्सव के शुरू होने से पहले ही सूरत में 600 करोड़ रुपए के गणेशजी की चर्चा जोरों पर है।

जी हां, 600 करोड़ के गणेश जी जिनकी गणेश उत्सव के दौरान सुरक्षा की दृष्टि से पूजा सिर्फ कुछ लोग ही कर पाते हैं। सूरत में रहने वाले कनु भाई असोदरिया सूरत में बैठकर देश और दुनिया के कई हिस्सों में डायमंड का बड़ा कारोबार करते हैं।

कनु भाई ने वर्षों पहले जब बैल्जियम से डायमंड का जखीरा मंगाया था तभी उसमें से भगवान गणेश जी के आकार का एक बड़ा डायमंड निकला था। बस तभी से कनु भाई और उनके पारिवारिक लोगों ने इनकी पूजापाठ शुरू कर दी थी। इस पूजा पाठ में चंद लोग ही शामिल होते थे।

कनु भाई की माने तो उनके पिता को स्वप्न देकर भगवान गणेश उनके घर आए थे और इस तरह का दुनिया में दूसरा कोई हीरा नहीं है। हीरे के जानकार इसकी कीमत 600 करोड़ रुपए आंक रहे हैं। हीरा जगत की विश्वव्यापी संस्था ने उन्हें इस बात का प्रमाण पत्र भी दिया है कि इस हीरे से कोई छेड़-छाड़ नहीं की गई है इसका आकार कुदरती है।

देश विदेश से भी लोग देखने आते हैं

कनु भाई की माने तो उनके कुछ दोस्तों की सलाह के बाद वो भगवान गणेश रूपी इस डायमंड को अब लोगों के सामने दर्शन के लिए पेश करना चाहते हैं। मगर सुरक्षा की दृष्टि से ऐसा वो नहीं कर पा रहे हैं। क्योंकि सार्वजानिक रूप से पूजा पाठ करने के लिए सरकार और पुलिस का सहयोग बहुत जरुरी है वो सरकार से आने वाली जनवरी 2015 गुजरात सरकार के वाइब्रैंट प्रोग्राम में हिस्सा लेना चाहते हैं इसके लिए गुजारिश करेंगे। कनु भाई ने बताया कि डायमंड गणेश की यह आकृति मुंबई के सिद्घि विनायक मंदिर में रखी जा चुकी है वहां के पुजारियों और भक्तों ने भी इसके दर्शन का लाभ लिया है।

यही नहीं देश विदेश के कई जानी मानी हस्तियां इन 600 करोड़ रुपए के गणेश जी के दर्शन के लिए सूरत आ चुकी हैं। कोहिनूर से भी ज्यादा कीमती आने वाले दिनों में ताजमहल की तरह लोग देश विदेश से देखने आए हैं। वो इस हीरे को बेचना नहीं चाहते।

कोहिनूर हीरे से भी यह गणेश हीरा ज्यादा कीमती है क्योंकि कोहिनूर का वजन 105 कैरेट है जबकि इस गणेश रूपी हीरे का वजन 182 कैरेट 53 सेंट है, जो हिन्दू धर्म का प्रतीक है। और हम गर्व से कह सकते है कि कोहिनूर की जगह अब हमारे पास गणेश हीरा है।

औसतन 600 करोड़ रुपए के इस गणेश रूपी डायमंड की कनु भाई और उनके कर्मचारी सूरत के अपने ऑफिस में हर रोज पूजा पाठ करते हैं। इस गणेश उत्सव में अगर सरकार उन्हें सुरक्षा देगी तो इसकी आकृति की सार्वजनिक रूप से लोगों से पूजा करवाना चाहते हैं लेकिन यह बात फिलहाल इतनी आसान नजर नहीं आ रही है, जितना कनु भाई कह रहे हैं।