मल्टीमीडिया डेस्क। ज्योतिषशास्त्र में गुरु ग्रह को धर्म, ज्ञान और सुख-समृद्धि का कारक ग्रह माना गया है। बीते 4 महीने से गुरु तुला राशि में वक्री यानी उलटी चाल चल रहे हैं। 10 जुलाई को रात 11.32 मिनट पर गुरु अपनी चाल बदलकर मार्गी हो गए हैं। गुरु इसके पहले 9 मार्च को तुला राशि में वक्री हुए थे, जिसके कारण 123 दिनों तो कई राशि के जातकों की जिंदगी में काफी उथल-पुथल थी।

इसी चाल से चलते हुए 11 अक्टूबर को तुला राशि से निकलकर वृश्चिक राशि में प्रवेश करेंगे। इस बीच अगले चार महीने तक गुरु का सीधी चाल चलना ज्योतिषशास्त्र में शुभ माना गया है। देखिए, आपकी राशि के लिए गुरु का मार्गी होकर चलना कैसा रहेगा।

मेष राशि- गुरु का तुला में मार्गी होना बहुत भाग्यशाली होगा। रुके हुए काम अब से पूरे होने लगेंगे। धन कमाने के कई मौके प्राप्त होने के आसार है।

वृष राशि- इस राशि के जातकों के लिए गुरु छठे भाव में मार्गी होंगे। धन की समस्या का खत्म होगी। रुके काम फिर से पटरी पर लौट आएगा।

मिथुन राशि- कार्य स्थल पर प्रमोशन मिलने के योग बन रहे हैं। अचानक धन लाभ भी मिल सकता है। व्यापार में तरक्की देखने को मिलेगी।

कर्क राशि- मित्र राशि में होने से सुख और सौभाग्य प्राप्त करने में सफलता मिलगी। इस राशि वालों के लिए घर का सपना पूरा हो सकता है। परिजनों में प्रेम बढ़ेगा।

सिंह राशि- सिंह राशि के लिए बृहस्पति का मार्गी होना शुभ रहेगा। हालांकि, इस समय वक्री चल रहे शनि के कारण मानसिक परेशानी हो सकती हैं। पढ़ाई के क्षेत्र में सफलता मिल सकती है।

कन्या राशि- धन संबंधी परेशानियां खत्म होंगी। आय के नए साधन बनेंगे। मित्रों और परिजनों के साथ संबंध मधुर होंगे।

तुला राशि- स्वास्थ्य संबंधी यदि कोई परेशानी चल रही थी, तो वह दूर होगी। समय अच्छा है। सारे कार्य मनोकूल होंगे।

वृश्चिक राशि- विदेश यात्रा के योग बन रहे हैं। कार्यस्थल और व्यवसाय में लाभ हो सकता है। पदोन्नति के भी योग दिख रहे हैं। आपकी लाइफ में बदलाव का दौर शुरु हो सकता है।

धनु राशि- गुरु के स्वामित्व वाली धनु राशि पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है। हालांकि, इस राशि के लिए गुरु के पहले स्थान पर मार्गी होने से लाभ मिलेगा। जमीन-जायदाद में मुनाफा मिलने के योग बन रहे हैं।

मकर राशि- रुके हुए काम पूरे होंगे। मान-सम्मान और यश में बढ़ोत्तरी के योग बन रहे हैं। परिवार के साथ अच्छा समय बीतेगा। कम मेहनत में भी बड़ी सफलता मिल सकती है।

कुंभ राशि- नवम भाव में बृहस्पति का मार्गी होना आर्थिक मजबूती की तरफ संकेत देता है। कुंभ राशि के लिए यह योग अत्यंत लाभकारी रहेगा।

मीन राशि- इस राशि वालों के लिए गुरु अष्टम भाव में मार्गी हो रहा है। पिछले कई महीनों से चली आ रही परेशानियां खत्म होंगी। मान-सम्मान में वृद्धि होगी। भाग्योदय होने के प्रबल योग हैं।