मल्टीमीडिया डेस्क। देव गुरु ब्रहस्पति 11 अक्टूबर 2018 की शाम 7.16 मिनट पर मंगल की दूसरी राशि वृश्चिक में प्रवेश करेंगे। गुरु ग्रह करीब 13 माह में राशि परिवर्तन करते हैं। वृश्चिक राशि में वह 29 मार्च 2019 तक भ्रमण करेंगे और 29 मार्च को धनु राशि में प्रवेश करेंगे। गुरु 11 अप्रैल को वक्री हो जाएंगे और 23 अप्रैल को फिर वृश्चिक में प्रवेश करेंगे। इसी राशि में वे 5 नवंबर 2019 तक रहेंगे।

गुरु की प्रसन्नता के लिए बृहस्पति स्त्रोत का पाठ करना चाहिए। वैदिक मंत्रों के जाप के साथ ही शिव मंदिर में प्रत्येक गुरुवार को गुड़, चना, दाल, हल्दी गांठ, पीले पुष्प अर्पित करने चाहिए। माता-पिता व गुरु की सेवा करने के साथ दान पुण्य करने से गुरु की कृपा मिलती है। जानिए कैसा रहेगा गुरु का गोचर...

मेष- इस राशि से गुरु का गोचर आठवें भाव में होगा। राज्य की ओर से कष्ट, व्यवसाय में हानि, पेट संबंधी रोग हो सकते हैं। पुत्र से विवाद, यात्राएं असफल होंगी। समस्याएं बढ़ सकती हैं। आरोप लग सकते हैं। विपरीत लिंग के मामलो में संभलकर रहें।

वृष- आय में कमी रहेगी। तनाव रहेगा एवं अनेक प्रकार की चिंताएं रहेंगी। कुछ दिनों बाद आय में सुधार होगा, लेकिन अन्य हालात वैसे ही बने रहेंगे। मेहनत अधिक रहेगी। निकट के लोग दूरी बनाने का प्रयास करेंगे। मानसिक अवसाद व चिंता रहेगी।

मिथुन- भाग्य का साथ मिलेगा, नए कार्य बनेंगे, मित्रों से परेशानी हो सकती है। यात्रा के योग बन सकते हैं।

कर्क- अच्छा समय शुरू हो रहा है। आय में सुधार के साथ, सम्मान में वृद्धि होगी। विरोधियों का शमन होगा। राहत की प्राप्ति होगी। कानूनी मामलों की परेशानी दूर होगी।

सिंह- कार्यस्थल पर प्रभाव बढ़ेगा। संतान से सुख और नए कार्यों की प्राप्ति होंगी। आय में बढ़ोतरी होगी एवं जमीन से लाभ मिल सकता है।

कन्या- कार्य में बाधाएं, शारीरिक कष्ट, संबंधियों से विवाद। नए वाहन का योग बन सकता है। व्यय अधिक हो सकता है।

तुला- धन लाभ, मांगलिक कार्य, विवाह, संतान सुख मिल सकता है। कार्य समय पर होंगे एवं लाभ की प्राप्ति भी होगी। वाहन सुख एवं यात्रा का योग है।

वृश्चिक- आय के मामलों में लाभ होगा। कार्य में तरक्की होगी। छोटी-मोटी परेशानियां आ सकती हैं। आर्थिक परेशानी दूर होगी। धार्मिक कार्यों में मन लगेगा।

धनु- संतान से कष्ट, भाइयों का सहयोग मिलेगा। व्यय बढ़ेगा और आय में सामान्य स्थिति रह सकती है। वाहन सावधानी से चलाएं।

मकर- आय में वृद्धि होने लगेगी। कानूनी मामलों में सफलता, धन लाभ, शत्रु पराजित होंगे। कोई शुभ समाचार मिल सकता है।

कुंभ- संतान से सुख और कार्य में वृद्धि हो सकती है। प्रतिष्ठा और मान बढ़ेगा। यात्राएं सुखद रहेंगी। विरोधी शांत रहेंगे।

मीन- आय बढ़ेगी, घर और कार्यालय में वरिष्ठों से लाभ मिलेगा। योजनाएं सफल होंगी। भाग्य का साथ मिलेगा। रुके कार्यों में तेजी आएगी।