हनुमान जी कलयुग में जीवित देवता है और ऐसी मान्यता है कि जो भक्त श्रद्धापूर्वक और भक्ति भाव से हनुमान जी की उपासना करता है उसकी मनोकामना पूरी होती है। बता दें कि, हनुमान की उपासना आरोग्य, संतान सुख और भूत-प्रेत आदि बाधाओं से मुक्ति दिलाती है। ऐतिहासिक और भौगोलिक आधर के अनुसार हनुमान जी का जन्म वर्तमान कर्नाटक प्रदेश में माना गया है। इस बार 19 अप्रैल को हनुमान जयंती मनाई जाएगी। इस खास मौके पर हम आपको बता रहे हैं, भगवान हनुमान को प्रसन्न करने के कुछ खास उपाय...

यूं तो शास्त्रों में हनुमानजी को प्रसन्न करने के कई उपाय बताए गए हैं जिसे करने से बजरंगबली जरूर प्रसन्न होते हैं और हर मनोकामना पूरी करते हैं। उन्हीं में से एक सिंदूर। शास्त्रों में सिंदूर को सुख, सौभाग्य और संपन्नता का प्रतीक माना गया है। इसका इस्तेमाल खास तरीके से किया जाए तो इसके जादुई प्रभाव देखने को मिल सकते हैं। सबसे पहले हनुमान जी के दाएं पैर से टीका लेकर अपने माथे पर लगाएं।

शास्त्रों के अनुसार धन लाभ के लिए एक नारियल पर कामिया सिंदूर, मौली, अक्षत अर्पित कर पूजन करें। इन सभी सामग्रियों को हनुमान जी के मंदिर में चढ़ा दें।

सिंदूर अर्पित करने से हनुमान प्रसन्न होते हैं। हनुमान जयंति के दिन हनुमान जी मंदिर जाकर उन्हें सिंदूर व चमेली का तेल अर्पित करें और अपनी मनोकामना कहे। ऐसा करने से आपकी हर मनोकामना पूरी होगी।

हनुमान जी के चरणों का सिंदूर लेकर उससे सफेद कागज पर स्वास्तिक बनाएं, लेकिन उस कागज को मोड़े नहीं। इस कागज को हमेशा अपने साथ रखे। इससे नौकरी संबंधित समस्या हल होगी।

घर के मुख्य द्वार पर सरसो का तेल और सिंदूर का टीका लगाने से कोई भी बुरी शक्ति घर में प्रवेश नहीं करती। इससे वास्तु दोष भी समाप्त हो जाते हैं और लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। वहीं, शनि के दोषों के छुटकारा पाने के लिए हनुमान जी को चोला अर्पित करें।