नई दिल्ली। दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) ने भारत के पूर्व तेज गेंदबाज अमित भंडारी पर हमला करने के मामले में अंडर-23 क्रिकेटर अनुज डेढ़ा और उसके भाई नरेश पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया है।

अनुज ने प्रदेश की अंडर-23 टीम में चयन नहीं होने पर डीडीसीए की चयन समिति के अध्यक्ष भंडारी के साथ मारपीट की थी। भंडारी पर सोमवार को अंडर-23 ट्रायल के दौरान सेंट स्टीफंस मैदान पर तब हमला किया गया, जब वे सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के चयन ट्रायल्स में शामिल हुए थे। अनुज डेढ़ा और उसके साथियों ने भंडारी पर लोहे की रॉड और हॉकी स्टिक से हमला किया जिससे उनके सिर और शरीर के कई हिस्सों में चोट आईं थीं। उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां उपचार के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई थी। इस बीच दिल्ली पुलिस ने डेढ़ा को गिरफ्तार कर लिया।

भारत के पूर्व कप्तान और डीडीसीए की एपेक्स काउंसिल के सदस्य गौतम गंभीर ने डेढ़ा पर आजीवन प्रतिबंध लगाने की मांग की थी। डीडीसीए के अध्यक्ष रजत शर्मा ने कहा कि अनुज डेढ़ा पर आजीवन प्रतिबंध लगाया जाएगा और यह फैसला बैठक में लिया गया जहां चयनकर्ताओं के अलावा गौतम गंभीर भी मौजूद थे। हम आम बैठक के बाद सुझाव की पुष्टि करेंगे। तब तक डेढ़ा डीडीसीए के किसी भी टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं लेंगे। गौतम गंभीर ने आजीवन प्रतिबंध की बात कही थी और साथ ही उन्होंने यह भी सुझाव दिया था कि अब से खिलाड़ी के माता-पिता, परिजनों या दोस्तों को ट्रायल देखने की इजाजत नहीं दी जाएगी। चाहे वह अंडर-14 के हों या फिर अंडर-16 के हो, केवल खिलाड़ियों को ही स्टेडियम परिसर में प्रवेश मिलेगा। चयनकर्ताओं पर कुछ खिलाड़ियों को चयनित करने के दबाव डालने संबंधी शिकायतों की जांच शुरू कर दी गई है। इसके अलावा अनुज और नरेश पर आजीवन प्रतिबंध लगाने का फैसला किया गया है।

बढ़ेगी चयनकर्ताओं की सुरक्षा : डीडीसीए के अध्यक्ष रजत शर्मा ने आश्वासन दिया है कि ट्रायल्स के दौरान चयनकर्ताओं की सुरक्षा बढ़ाई जाएगी। शर्मा ने कहा कि हमारे चयनकर्ताओं के लिए सुरक्षा काफी अहम है। जहां भी ट्रायल्स होगा हम वहां की लोकल पुलिस को सूचित करेंगे। हम आश्वासन देते हैं कि अब से खिलाड़ियों और चयनकर्ताओं को हर संभव सर्वश्रेष्ठ सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी।