मल्टीमीडिया डेस्क। क्रिकेट वर्ल्ड कप इतिहास का पहला संस्करण 7 से 21 जून 1975 के बीच इंग्लैंड में आयोजित किया गया था। यह सीमित ओवरों का पहला प्रमुख इंटरनेशनल टूर्नामेंट था और क्लाइव लॉयड की वेस्टइंडीज टीम इसमें चैंपियन बनी थी।

इस विश्व कप में आठ टीमों ने हिस्सा लिया था, जिनमें से 6 टीमें उस समय टेस्ट खेलने वाले देशों (इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, वेस्टइंडीज, भारत और पाकिस्तान) की थी। दो एसोसिएट देशों की टीमों श्रीलंका और ईस्ट अफ्रीका को शामिल किया गया था। इस वर्ल्ड कप में मुकाबले 60-60 ओवरों के हुए थे।

टीमों को 4-4 के दो ग्रुप में विभाजित किया गया था। ग्रुप ए में इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, भारत और ईस्ट अफ्रीका की टीमें थी। इस ग्रुप से इंग्लैंड ने पहले और न्यूजीलैंड ने दूसरे स्थान पर रहते हुए सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। ग्रुप बी में वेस्टइंडीज, ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और श्रीलंका की टीमें थी। इस ग्रुप से वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया ने क्वालीफाई किया था।

वेस्टइंडीज ने न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को हराकर फाइनल में जगह बनाई थी। फाइनल में वेस्टइंडीज ने कप्तान लॉयड के शतक (102 रन, 85 गेंद) से 8 विकेट पर 291 रन बनाए। इसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया 274 रन बना पाया और 17 रनों से हार गया।

  • इस वर्ल्ड कप में सुनील गावस्कर ने एक ऐसा रिकॉर्ड बनाया था जिसे कोई बल्लेबाज अपने नाम पर नहीं चाहेगा। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ पूरे 60 ओवर बल्लेबाजी कर नाबाद 36 रन बनाए थे।
  • यह एकमात्र ऐसा वर्ल्ड कप है जब एशिया महाद्वीप की कोई टीम सेमीफाइनल में नहीं पहुंची थी।
  • ऑस्ट्रेलिया के गैरी गिल्मोर ने सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ 14 रनों पर 6 विकेट लिए थे। गिल्मोर का वर्ल्ड कप मैच में सबसे शानदार गेंदबाजी प्रदर्शन का रिकॉर्ड 1983 में विंस्टन डेविस ने तोड़ा।
  • न्यूजीलैंड के ग्लेन टर्नर 4 मैचों में 333 रन बनाकर इस वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे। इसी प्रकार ऑस्ट्रेलिया के गैरी गिल्मोर 2 मैचों में 11 विकेटों के साथ सबसे सफल गेंदबाज रहे।
  • इस वर्ल्ड कप में एक मैच में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड मेजबान इंग्लैंड ने बनाया जब उसने टूर्नामेंट के पहले मैच में भारत के खिलाफ 4 विकेट पर 334 रन बनाए थे।