एडिलेड। पहले टेस्ट मैच की पहली पारी के पहले दिन भारतीय टीम के हीरो रहे चेतेश्वर पुजारा ने कहा कि टीम के टॉप ऑर्डर के बल्लेबाजों को ज्यादा अच्छी बल्लेबाजी करनी चाहिए। पहले टेस्ट के पहले दिन पुजारा ने अपने टेस्ट करियर का 16वां शतक लगाया और खेल खत्म होने तक भारतीय टीम ने 9 विकेट खोकर 250 रन बना लिए थे। एक वक्त पर भारतीय टीम की स्थिति काफी खराब थी और टीम के छह बल्लेबाज 127 रन के स्कोर पर पवेलियन लौट चुके थे।

पुजारा ने कहा कि हमें और ज्यादा अच्छी बल्लेबाजी करनी चाहिए थी, लेकिन कंगारू टीम ने पहले दो सेशन में काफी अच्छी गेंदबाजी की। मैं जानता था कि मुझे धौर्य बनाए रखना है और खराब गेंद का इंतजार करना है। मेहमान टीम के गेंदबाज बिल्कुल सही जगह पर गेंदबाजी कर रहे थे। मुझे ऐसा महसूस हुआ कि हमारी टीम के टॉप ऑर्डर के बल्लेबाजों को ज्यादा अच्छी बल्लेबाजी करना चाहिए थी, लेकिन वो अपनी इन गलतियों से जरूर सीखेंगे। मुझे उम्मीद है कि दूसरी पारी में हम अच्छी बल्लेबाजी करेंगे।

पुजारा ने कहा कि जहां तक मेरी पारी का सवाल है तो मैंने इसके लिए काफी अच्छी तैयारी की थी और मेरे पास फर्स्ट क्लास और टेस्ट क्रिकेट का काफी अनुभव है जो मेरे काम आया। पुजारा ने आर अश्विन और इशांत शर्मा के साथ आखिरी में शानदार पार्टनरशिप की जिससे ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज थक गए थे। पुजारा की इस पारी की वजह से भारतीय टीम का स्कोर वहां पहुंच गया है जहां टीम फाइट कर सकती है। उन्होंने कहा कि बल्लेबाजी के लिए ये विकेट आसान नहीं थी और इसकी वजह से अपना शॉट खेलने के लिए उन्होंने काफी वक्त लिया। जब आप निचले क्रम के बल्लेबाजों के साथ खेल रहे होते हैं तो आपको पता नहीं होता कि वो कितनी देर तक क्रीज पर टिके रहेंगे। आप उस वक्त चांस नहीं ले सकते जिस तरह के चांस आप टॉप ऑर्डर के बल्लेबाजों के साथ खेलते हुए ले सकते हैं।

शतक लगाने वाले पुजारा ने बताया कि मैंने दो सेशन में बल्लेबाजी की और मुझे पता चल गया था कि पिच पर गेंद कितनी तेज आ रही है और कितनी बाउंस होगी। मैं क्रीज पर पूरी तरह से सेट हो चुका था जिसकी वजह से अपने शॉट्स खेल पाया। आखिरी वक्त पर आउट होने से मैं काफी निराश हूं। मैं एक रन लेना चाहता था क्योंकि सिर्फ दो गेंद बचे थे और मैं स्ट्राइक पर रहना चाहता था। मैंने चांस लिया लेकिन पैट कमिंग ने काफी अच्छी फील्डिंग की। पुजारा मैच के पहले दिन की आखिरी गेंद पर रन आउट हो गए थे।

उन्होंने कहा कि पहली पारी में 250 का स्कोर अच्छा टोटल है क्योंकि पिच पर काफी टर्न है। अश्विन अभी खेलने आएंगे। ये विकेट बल्लेबाजी के लिए मुश्किल है। जब आप टीवी पर मैच देख रहे होते हैं तो आपको पता नहीं लग पाता कि पिच कैसा बर्ताव कर रहा है, लेकिन जब मैं पहले और दूसरे सेशन में बल्लेबाजी कर रहा था तो मैंने महसूस किया कि बल्लेबाजी करना आसान नहीं है। वहीं मैं अपने तेज गेंदबाजों से अपना अनुभव शेयर करते हुए ये बताउंगा कि इस पिच पर किस लाइन और लेंथ से गेंदबाजी करनी चाहिए।