बर्मिंघम। कप्तान केन विलियम्सन की शतकीय पारी की बदौलत न्यूजीलैंड ने आईसीसी क्रिकेट विश्व कप के रोमांचक मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका को 4 विकेट से हरा दिया। दक्षिण अफ्रीका द्वारा निर्धारित 242 रनों के चुनौतीपूर्ण लक्ष्य को न्यूजीलैंड ने 3 गेंदें शेष रहते हासिल किया। प्लेयर ऑफ द मैच घोषित किए गए विलियम्सन ने 106 रनों की शानदार नाबाद शतकीय पारी खेली और अपनी टीम को जीत दिलाई। ये 5 मैचों में न्यूजीलैंड की चौथी जीत है और 9 अंकों के साथ वो तालिका में शीर्ष पर पहुंच गया है।

242 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए न्यूजीलैंड की पारी बीच में लड़खड़ा गई थी, लेकिन बाद में कप्तान केन विलियम्सन और कोलिन ग्रैंडहोम ने न्यूजीलैंड टीम को संभाला। न्यूजीलैंड की शुरुआत खराब रही और कोलिन मुनरो केवल 9 रन बनाकर आउट हो गए। एक समय न्यूजीलैंड के 4 विकेट केवल 80 रनों में गिर गए थे। मुनरो (9) के अलावा गप्टिल (35), रॉस टेलर (1) और टॉम लाथम (1) सस्ते में आउट हो गए। इसके बाद विलियम्सन ने जेम्स नीशम को साथ लेकर न्यूजीलैंड को उबारा। नीशम 23 रन बनाकर क्रिस मॉरिस के शिकार हुए। इसके बाद विलियम्सन और ग्रैंडहोम ने शानदार बल्लेबाजी की। दोनों ने छठे विकेट के लिए 91 रनों की साझेदारी की। इस दौरान ग्रैंडहोम ने अपना अर्द्धशतक पूरा किया। वे 47 गेंदों में 60 रन (5 चौके, 2 छक्के) बनाकर आउट हुए।

अंत में मैच रोमांचक मोड़ पर पहुंच गया था। लेकिन विलियम्सन ने न केवल अपना शतक पूरा किया बल्कि टीम को जीत भी दिलाई। उन्होंने 138 गेंदों का सामना करते हुए नाबाद 106 रन (9 चौके, 1 छक्का) बनाए। न्यूजीलैंड की ओर से मॉरिस ने 3 विकेट लिए।

इससे पहले दक्षिण अफ्रीका ने रासी वान डर डुसैन (67) और हाशिम आमला (55) की शानदार पारियों की मदद से निर्धारित 49 ओवरों में 6 विकेट पर 241 रन बनाए। धीमी शुरुआत के बाद भी अफ्रीका संघर्ष करता नजर आ रहा था, लेकिन अंत में डुसैन की आक्रामक पारी की बदौलत वो न्यूजीलैंड के सामने चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाने में कामयाब रहा।

A potentially tricky chase coming up for New Zealand, as South Africa set them 242 to win!

Rassie van der Dussen top scored for the Proteas with 67* whilst Lockie Ferguson took three wickets for his side.#CWC19 pic.twitter.com/ZLlsBGKtm6

— Cricket World Cup (@cricketworldcup) 19 June 2019

इससे पहले टॉस हारने के बाद पहले बल्लेबाजी करते हुए द. अफ्रीका की शुरुआत अच्छी नहीं रही। ट्रेंट बोल्ट ने क्विंटन डी कॉक (5) को बोल्ड कर द. अफ्रीका को पहला झटका दिया। इसके बाद लोकी फर्ग्यूसन ने कप्तान फॉफ डु प्लेसिस (23) को बोल्ड किया।

बाद में आमला ने एडन मार्करैम को साथ लेकर अफ्रीकी पारी को संभाला। दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 52 रन जोड़े। आमला ने 83 गेंदों का सामना करते हुए 55 रन (4 चौके) बनाए। उन्हें सेंटनर ने बोल्ड किया। इसी दौरान आमला ने वनडे क्रिकेट में अपने 8000 रन भी पूरे किए।

मार्करैम 38 रन (55 गेंद) बनाकर ग्रैंडहोम के शिकार बनें। इसके बाद डुसैन ने दक्षिण अफ्रीका को सम्मानजनक स्थिति में पहुंचाया। उन्होंने डेविड मिलर को साथ लेकर पारी को उबारा। दोनों ने 5वें विकेट के लिए 72 जोड़े। मिलर को फर्ग्यूसन ने बोल्ट के हाथों कैच कराकर इस जोड़ी को तोड़ा। मिलर 36 रन (37 गेंद, 2 चौके, 1 छक्का) बनाकर पैवेलियन लौटे। उधर इसी दौरान डुसैन ने अपना अर्द्धशतक पूरा किया। उन्होंने 64 गेंदों में 2 चौकों और 3 छक्कों की मदद से 67 रन का पारी खेली। वे अंत तक आउट नहीं हुए। न्यूजीलैंड की ओर से फर्ग्यूसन ने 3 विकेट लिए, जबकि बोल्ट, ग्रैंडहोम और सेंटनर को 1-1 विकेट मिला।

न्यूजीलैंड ने प्लेइंग इलेवन में कोई बदलाव नहीं किया। द. अफ्रीकी टीम में फिट हो चुके लुंगी नजीडी की वापसी हुई। उन्हें ब्यूरेन हैंड्रिक्स की जगह टीम में लिया गया। दक्षिण अफ्रीका को क्रिकेट वर्ल्ड कप में अपनी सेमीफाइनल की उम्मीदों को बनाए रखने के लिए बुधवार को न्यूजीलैंड के खिलाफ हर हाल में जीत दर्ज करनी होगी। इन दोनों टीमों के बीच 2015 वर्ल्ड कप का सेमीफाइनल भी खेला गया था और द. अफ्रीकी टीम उस मैच की हार का बदला लेना चाहेगा।

द. अफ्रीका के लिए इस वर्ल्ड कप में अभी तक का सफर बेहद निराशानजक रहा है। उसके पांच मैचों में मात्र 3 अंक है और वह अंक तालिका में आठवें स्थान पर है। दूसरी तरफ न्यूजीलैंड का प्रदर्शन शानदार रहा है। वह चार मैचों से 7 अंकों के साथ अंक तालिका में तीसरे क्रम पर हैं। उसका और भारत का मैच बारिश में धुल गया था।

टीमें - न्यूजीलैंड : मार्टिन गप्टिल, कोलिन मुनरो, केन विलियम्सन (कप्तान), रॉस टेलर, टाम लाथम, जेम्स नीशम, कोलिन डी ग्रैंडहोम, मिचेल सेंटनर, मैट हैनरी, लोकी फर्ग्यूसन, ट्रेंट बोल्ट।

दक्षिण अफ्रीका : क्विंटन डी कॉक, हाशिम अमला, एडन मार्करैम, फॉफ डु प्लेसिस (कप्तान), रासी वान डर डुसैन, डेविड मिलर, एंडिले फेहलुकवायो, क्रिस मॉरिस, कगिसो रबाडा, लुंगी नजीडी, इमरान ताहिर।