मेलबर्न। तेज गेंदबाज जोस हेजलवुड 30 मई से इंग्लैंड में होने वाले आईसीसी वर्ल्ड कप के लिए ऑस्ट्रेलियाई टीम में शामिल नहीं किए जाने से निराश हैं। वे इस निराशा को भुलाकर अब 1 अगस्त से होने वाली एशेज सीरीज की तैयारी में जुट जाएंगे।

हेजलवुड 2015 की विश्व कप विजेता ऑस्ट्रेलियाई टीम में शामिल थे। इस बार सिलेक्टर्स ने उनके साथ दो बार दगाबाजी की। उन्हें ऑस्ट्रेलियाई टीम में जगह नहीं दी गई थी। इसके बाद दूसरी बार हेजलवुड की अनदेखी की गई जब पिछले सप्ताह चोटिल झाय रिचर्डसन की जगह केन रिचर्डसन को शामिल किया गया।

हेजलवुड पीठ की चोट से उबर रहे हैं और वे पिछले नवंबर से ऑस्ट्रेलिया की तरफ से कोई इंटरनेशनल मैच नहीं खेले हैं। सिलेक्टर्स ने पहले ही साफ कर दिया था कि वे चाहते हैं कि हेजलवुड पूरी तरह फिट हो जाए और एशेज सीरीज पर ध्यान दे। चीफ सिलेक्टर्स ट्रेवर होंस ने कहा था, हेजलवुड कुछ समय से इंटरनेशनल स्तर पर खेले नहीं हैं। हम चाहते है कि उन्हें इस तरह तैयारी के लिए पर्याप्त समय मिलेगा। हम चाहते हैं कि वे एशेज सीरीज के दौरान फिट होकर शानदार फॉर्म में आ जाए।

हेजलवुड ने ब्रिस्बेन के एलन बॉर्डर फील्ड में टीम इंडिया के ट्रेनिंग कैंप के दौरान अपनी फिटनेस साबित की थी। उन्हें उम्मीद है कि उन्हें अभी भी टीम में जगह मिल सकती है। उन्होंने कहा, वर्ल्ड कप चार साल में एक बार होता है और मैं भाग्यशाली था कि पिछली बार मुझे अपनी धरती पर खेलने का मौका मिला। इस बार अपने घर में टीवी पर इस टूर्नामेंट को देखना दुखद होगा। वर्ल्ड कप टीम में नहीं चुने जाने के कारण मुझे इंग्लैंड में ड्यूक गेंद से ज्यादा चार दिवसीय मैच खेलने को मिलेंगे। इस वजह से मुझे दूसरे गेंदबाजों की तुलना लाल गेंद से गेंदबाजी का ज्यादा अनुभव मिलेगा।