मुंबई। क्रिकेटर से राजनेता बने गौतम गंभीर का मानना है कि आईसीसी वर्ल्ड कप के लिए चुनी गई टीम इंडिया में एक स्तरीय तेज गेंदबाज की कमी हैं। दो बार की विजेता टीम इंडिया अपने वर्ल्ड कप अभियान की शुरुआत 5 जून को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ करेगी।

भारत के पूर्व ओपनर गंभीर ने कहा, मेरा मानना है कि टीम में एक स्तरीय तेज गेंदबाज कम है। जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार को ज्यादा सपोर्ट चाहिए था। लोग कहेंगे कि टीम में हार्दिक पांड्या और विजय शंकर के रूप में तेज गेंदबाजी करने वाले ऑलराउंडर मौजूद है लेकिन मैं इस बात से संतुष्ट नहीं हूं। टीम इंडिया को अब सही टीम कॉम्बिनेशन के लिए जूझना होगा।

पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से भाजपा के उम्मीदवार गंभीर ने कहा, यह विश्व कप बहुत चुनौतीपूर्ण होगा क्योंकि सभी टीमों को एक-दूसरे से खेलना होगा। इस फॉर्मेट की वजह से हमें वास्तविक चैंपियन मिलेगा और मेरा मानना है कि आईसीसी को हर टूर्नामेंट इसी फॉर्मेट से करवाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि वर्ल्ड कप में भारत के अलावा ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड की टीमें खिताब की दावेदार होंगी। मैं भारत के अलावा ऑस्ट्रेलियाई टीम के मैच देखना चाहूंगा क्योंकि उनका गेंदबाजी आक्रमण बहुत अच्छा है। मेजबान इंग्लैंड और न्यूजीलैंड की टीमों के मैच भी देखना चाहूंगा।